Categories
Other

एयर इंडिया ने मु`है`या कराया प्रधानमंत्री के लि`ए विश्व का नं`ब`र व`न प्लेन’ अमेरिका भी रह गया पीछे अब वि`वा`दों में घिरे मोदी …..

breaking

  • भारत ने अमेरिका से दो बोइंग-777 की डील की थी, इनमें से एक आज दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचा
  • विमान में VIPs के लिए केबिन और मेडिकल सेंटर की व्यवस्था, मीडिया के लिए भी जगह दी गई

अमेरिका से स्पेशल एयरक्राफ्ट एयर इंडिया वन गुरुवार को दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचा। इस विमान का इस्तेमाल राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की यात्राओं के दौरान किया जाएगा। इसमें स्पेशल कम्युनिकेशन सिस्टम है। इसके जरिए हवा में ऑडियो-वीडियो कम्युनिकेशन हो सकेगा और इसे हैक भी नहीं किया जा सकता है।

क्या है इस विमान की खासियत?

  • एयरक्राफ्ट एडवांस डिफेंस सिस्टम से लैस है और मिसाइल अटैक को नाकाम करके पलटवार भी कर सकता है।
  • इस विमान में हवा में ईंधन भरा जा सकता है। ईंधन भरने के बाद यह लगातार 17 घंटे तक उड़ान भर सकता है।
  • विमान भारत से अमेरिका तक करीब साढ़े 12 हजार किमी की दूरी एक बार में तय कर सकता है।
  • इस विमान में वीआईपी के लिए बड़े केबिन हैं और इसके अलावा एक मेडिकल सेंटर भी है।
  • एयरक्राफ्ट में मीडिया के लिए भी जगह दी गई है। पीछे की सीटें इकोनॉमी क्लास हैं और बाकी सीटें बिजनेस क्लास हैं।
  • दोनों विमान की कीमत करीब 8,458 करोड़ रुपए है। विमान के उड़ान के दौरान हर घंटे करीब 1 करोड़ 30 लाख रु. की लागत आती है।

अमेरिका से दो विमानों की डील हुई है
भारत ने अमेरिका से दो बोइंग-777 ईआर एयरक्राफ्ट (एयर इंडिया वन) खरीदने की डील की थी। इनमें से एक भारत आ चुका है। एयर इंडिया वन (बी-777) एयरक्राफ्ट की सभी तरह की टेस्टिंग पहले ही की जा चुकी है।

अभी एयर इंडिया को यह विमान मिला है और इसे बाद में भारतीय वायुसेना को हैंडओवर किया जाएगा। जब तक वायुसेना के पायलट इस विमान को उड़ाने में एक्सपर्ट नहीं हो जाएंगे, तब तक एयर इंडिया के पायलट भी एयरक्राफ्ट ऑपरेटिंग टीम का हिस्सा रहेंगे।

भारत को कैसे मिले बोइंग 777-300 ईआर?

  • काफी लंबे समय से नए विमानों की खरीद पर चर्चा चल रही थी। जरूरत ये भी महसूस की गई कि नए विमान टू-इंजन या फोर-इंजन होने चाहिए। सरकार ने बोइंग 747 को रिप्लेस करने के लिए बोइंग 777-300 ईआर को चुना।
  • 2006 में एयर इंडिया ने बोइंग को 68 विमानों का ऑर्डर दिया। इसमें 27 ड्रीमलाइनर, 15 बोइंग 777-300ईआर, 8 बोइंग 777-200 एलआर और 18 बोइंग 737-800 शामिल हैं।
  • 24 जनवरी 2018 को तीन बोइंग 777-300 ईआर भारत को मिल चुके हैं। इनमें से दो को वीवीआईपी मोडिफिकेशन के लिए दोबारा अमेरिका भेजा गया है।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति के एयरफोर्स वन की तर्ज पर बोइंग 777-300 ईआर का कमर्शियल इस्तेमाल बिल्कुल नहीं किया जाएगा। जैसे इससे पहले बोइंग-747 विमानों का कमर्शियल यूज भी होता था और वीवीआईपी के लिए भी इनका इस्तेमाल होता था। डिफेंस मिनिस्ट्री बोइंग 777-300 ईआर को एयर इंडिया से खरीदेगी।
  • एक बात और कि इन नए विमानों को एयरफोर्स के पायलट ही उड़ाएंगे, एयर इंडिया के नहीं। हालांकि, इन विमानों के रखरखाव की जिम्मेदारी एयर इंडिया इंजीनियरिंग सर्विसेस लिमिटेड के पास होगी, जो एयर इंडिया की सब्सिडियरी है।