Categories
News

इस कार’ण हो रहीं लोगों की मौ’तें, कोरो’ना तो हैं बहाना, जानें सच्चाई….

हिंदी खबर

नई दिल्ली। भा’रत में कोरो’ना वायर’स जिस ते’जी से ब’ढ़ रहा है, उससे भी ते’ज गति से उससे जुड़ीं अफ’वाहें फैल रही हैं। कोरो’ना के खि’लाफ जं’ग में सबसे बड़ी बाधा’एं वे अफ’वाह हैं, जिन्हें लोग सच मान ले रहे हैं और को’रोना के खि’लाफ जंग कमजोर पड़ जा रही है। इसी क्रम में सोशल मीडिया पर एक ऑडि’या का’फी तेजी से वाय’रल हो रहा है, जिसमें दा’वा किया जा रहा है कि भारत में अभी जितनी भी मौ’तें हो रही हैं उसकी वज’ह 5जी नेट’वर्क की टेस्टिंग है और उसे कोरो’ना का नाम दिया जा रहा है। इस ऑडियो में दावा किया जा रहा है कि 5जी टेस्टिंग की जानकारी सबको नहीं दी गई है और इसकी व’जह से ही लोगों की मौ’तें अचान’क हो जा रही हैं।

हालांकि, जब इस वाय’रल ऑडियो की पड़’ताल की गई तो इस दावे को पूरी तर’ह से फ’र्जी पाया गया। PIB की फैक्ट चै’क टीम ने सोशल मीडिया पर वा’यरल इस दावे को फ’र्जी बताया है। पीआईबी ने लिखा है, ‘एक ऑडियो मैसेज में दा’वा किया जा रहा है कि राज्यों में 5g नेटवर्क की टेस्टिंग की जा रही है जिस का’रण लोगों की मृ’त्यु हो रही है व इसे कोवि’ड 19 का नाम दिया जा रहा है।’

हालां’कि, PIB की Fact Check टीम ने पाया कि यह दावा फ’र्जी है। साथ ही टीम ने लोगों से आ’ग्रह किया है कि कोरो’ना का’ल में कृप’या ऐसे फ’र्जी संदेश साझा कर के भ्र’म न फैलाएं। दरअसल, इस वा’यरल ऑडियो में दो लोग बातें करते सुने जा सकते हैं, जिसमें एक श’ख्स कोरो’ना से हो रही मौ’तों को 5जी टेस्टिंग का नाम देता दिख रहा है। वह इस ऑडि’यो में कहता है कि इसी व’जह से लोगों का ग’ला सूख रहा है और उसने दावा किया है कि मई तक इसकी टेस्टिंग हो जाएगी तो मौ’तें भी रुक जाएंगी।

मगर हकी’कत यह है कि कोरो’ना से हो रहीं मौ’तें और 5जी नेटवर्क की टेस्टिंग का दूर-दूर तक कोई सं’बंध नहीं है। कहीं से भी ऐसा कोई वैज्ञा’निक दावा नहीं है कि 5जी टेस्टिंग की व’जह से लोगों की मौ’तें हो रही हैं। इसलिए आप सभी पाठकों से आ’ग्रह है कि ऐसे वायरल संदेशों कहीं भी फॉर’वर्ड न करें और अफवा’हों से बचें और को’रोना के खिला’फ जंग में डटे रहें।