Categories
News

I’S’I’S सं’दि’ग्ध आ’तं’की अबू यूसुफ की पत्नी ने यु’सु’फ को लेकर कह दी ब’ड़ी बा’त, बोली पति को………

खबरें

दिल्ली के धौलाकुआं से गि’र’फ्ता’र I’S’I’S सं’दि’ग्ध आ’तं’की के परिजनों को उसकी क’र’तू’त पर अफसोस हो रहा है। पिता वकील अहमद ने कहा कि मुझे उसकी (बेटा) इस कर’तू’त के बारे में पता नहीं था। वरना उसे रोकता या घर से निकाल देता। वकील अहमद को बेटे की करतूत पर अ’फ’सो’स है। उन्होंने कहा कि पुरखों (म”र’हू’म बुजुर्गों) ने जो इज्जत कमाई, बेटे ने उसे मिट्टी में मिला दिया। मैंने उसकी गु’म’शु’द’गी की रिपोर्ट थाने में लिखवाई थी। अब तो जो भी करेगी, पु’लि’स करेगी। मैं चाहता हूं कि एक मर्तबा उसे माफी दे दें। वो दोबारा करे तो कुछ भी कर दीजिएगा। 

वहीं यूसुफ की पत्नी का कहना है कि उसने घर पर बा’रू’द इकट्ठा किया हुआ था। पत्नी ने इसके लिए यूसुफ को मना भी किया था लेकिन उसने उसकी एक न सुनी। यूसुफ की पत्नी ने कहा, ‘उसने घर पर बा’रू’द और दूसरा सामान इकट्ठा किया हुआ था। जब मैंने उसे यह सब करने से मना किया तो उसने कहा कि मुझे उसे रोकना नहीं चाहिए। काश कि उसे माफ कर किया जा सके। मेरे चार बच्चे हैं, मैं कहां जाऊंगी?’ पत्नी आयशा ने बताया कि आईएसआईएस के संदिग्ध आ’तं’की अबू यूसुफ टेलीग्राम के माध्यम से कुछ लोगों से जुड़े थे। 

अबु यूसुफ के भाई आकिब ने कहा कि मुझे आईएस के झंडे की पहचान नहीं है मगर रात को झंडा देखा। काले रंग के झंडे पर सफेद रंग से अरबी में ‘अल्ला’ह हू अकबर ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मदुन रसूलुल्लाह’ लिखा था। भाई सऊदी और अन्य जगहों पर रहा है।

अबू यूसुफ के घर से मि’ला वि’स्फो’ट’क

उधर बलरामपुर में अबू यूसुफ के घर से ब’ड़ी मा’त्रा में वि’स्फो’ट’क ब’रा’म’द हुआ है। इसमें एक्सप्लोसिव जैकेट भी शामिल है, जिसे कथित तौर पर फि’दा’यी’न ह’म’ले के लिए तैयार किया गया था। बता दें कि अबू यूसुफ बलरामपुर का ही रहने वाला है। आ’तं’की ने खुद ही कबूला था कि उसने आ’त्म’घा’ती ह’म’ले के लिए बेल्ट भी तैयार कर रखी है। पु’लि’स और एटीएस उसके ठिकानों पर छा’पे’मा’री कर रही है।

पु’लि’स पूछताछ में अबू यूसुफ ने कबूल किया कि उसने आ’त्म’घा’ती ह’म’ले के लिए शरीर में वि’स्फो’ट’कों को बांधने वाला बेल्ट भी तैयार कर रखा है। यह जानकारी दिल्ली पु’लि’स की स्पेशल सेल के डीएसपी ने मीडिया को दी। उन्होंने कहा अबू यूसुफ दिल्ली के किसी बे’ह’द भी’ड़’भा’ड़ वाले इलाके में ब’ड़ा ध’मा’का करना चाहता था। यह सोशल मीडिया के जरिए आईएसआईएस हैंडलरों के संपर्क में आया था और 2010 से पहले सऊदी अरब काम करने के लिए गया था