Categories
Other

सुशांत सिंह राजपूत ने 3 दिन पहले पिता को फोन करके, जताई थी इस बात पर चिंता

सुशांत सिंह राजपूत के आ-त्म-ह-त्या ने सबको झकझोर दिया. मात्र 34 साल की उम्र में ही वो चले गए. वो भी उस वक़्त जब वो अपने कैरियर की बुलंदियों पर थे. सुशांत के इस तरह चले जाने से उनके फैन्स तो सदमे में हैं ही, उनके परिवार पर भी दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है. पटना ने रहने वाले उनके पिता तो निःशब्द हैं. एकलौते बेटे थे सुशांत अपने पिता के. चार बहनों के एकलौते भाई. एक बहन की मृ-त्यु पहले ही हो चुकी थी. परिवार में किसी को यकीन ही नहीं हो रहा कि हमेशा खुश रहने वाले सुशांत अब इस दुनिया में नहीं हैं.

सुशांत सिंह राजपूत के पापा कृष्ण कुमार सिंह पटना में अकेले रहते हैं. उनकी देखरेख के लिए घर में केयरटेकर रहती है, जिनका नाम लक्ष्मी है. आखिरी बार जब उन्होंने पापा की केयरटेकर लक्ष्मी देवी से बात की थी, तो सुशांत ने उनसे कहा था कि प्लीज मेरे पापा को कोरोना वायरस से बचाना. लक्ष्मी ने बताया सुशांत उन्हें ‘दीदी’ कहकर पुकारते थे. वह रोज ही वह अपने पिता से बात करते थे. करीब दो दिन पहले मेरे से बाबू ने बात की थी. उन्होंने बताया कि सुशांत ने कुछ ही दिन पहले कहा था कि इस बार वह पटना आएगा तो पिताजी को ले जाएगा और फिर कहीं किसी पहाड़ी पर घूमने ले जाएगा. लेकिन बाबू तो नहीं आया, उसकी जगह यह मनहूस खबर आ गई.

पापा सुशांत से बहुत दूर थे, इसलिए उनकी सेहत की चिंता उन्हें हरदम सताती थी. एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने तीन दिन पहले अपने पापा को अंतिम फोन कॉल किया था. इस कॉल में उन्होंने अपने पापा को कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए घर से बाहर न जाने की सलाह दी थी.