Categories
News

एक्ट्रेस ने किया खुला’साः 18 की उम्र में धार्मिक गुरु ने मेरे साथ किया था कां’ड…देखें तस्वीर..

खबरें

वे’बसीरी’ज आश्रम में बॉबी देयोल के साथ महत्वपूर्ण किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस अनु’प्रिया गोय’नका ने हाल ही में अपनी जिंदगी का एक ऐसा राज खोला है, जिसमें एक आ’ध्यात्मि’क गुरु के साथ उनका एक अप्रि’य अ’नुभव जुड़ा हुआ है.

उन्होंने उस घ’टना के बारे में खुलकर बताया, जिसके चलते उनके दिमाग पर काफी गल’त प्रभाव पड़ा था. उन्होंने इस इं’टरव्यू में कहा कि, ‘मेरे पिता’जी काफी हद तक आ’ध्यात्मि’क रुझा’न रखते हैं. आध्यात्मिक’ता की मेरी और उनकी परिभाषाएं एकदम ही अलग हैं. आ’ध्यात्मिक’ता की मेरी परिभाषा है कि जब आप ब्रह्मांड में यकीन करते हैं, किसी बाहरी ताकत के अ’स्तित्व को स्वीकार करना जो हम सबसे ऊपर है, अच्छे विचा’रों को मानना और ये मानना कि हमसे बड़ी ताकत भी है, शायद ऊर्जा. मेरा मानना है कि भगवान है, क्योंकि ये हम सबको अच्छा महसूस करवाता है. मेरा मानना है कि भगवान है लेकिन मेरे लिए आ’ध्यात्मिक’ता का मतलब जिंदगी में कुछ अ’र्थपूर्ण कार्य करना है. चाहे वो मेरे आसपास के लोगों के लिए हों, चाहे मेरे परिवार, दोस्तों या बड़े रूप में समाज के लिए हों. अगर मैं ये सब करने में समर्थ हूं तो मैं अपनी आ’ध्यात्मिक’ता के साथ सं’पर्क में हूं या फिर उस मार्ग पर हूं.’

लेकिन पिता के लिए आ’ध्या’त्मिक’ता का म’तलब हमेशा साधू, सा’ध्वी को पा’गलपन की हद तक ढूं’ढना, और उसके लिए अपना सब कुछ छोड़कर अपनी आ’स्था के लिए बाकी सारे काम छोड़कर सम’र्पित कर देना रहा है. इससे वा’कई में परि’वार को काफी नुकसान हुआ क्योंकि उनका ध्यान परिवार पर, अपनी जि’म्मेदारियों पर के’न्द्रित नहीं था. इसे चलते वो एक पिता के तौर पर, एक पति के तौर पर अपनी जि’म्मेदा’रियों से बचते रहे. इसके चलते वो कोई भी काम करने में एक तरह से अक्ष’म हो गए. इसके चलते हमारे परिवार को काफी प’रेशानियों का सा’मना करना पड़ा था.

‘आध्यात्मिक संत के गलत इरादों का अनुभव हुआ’
अनुप्रिया ने आगे बताया कि, ‘और मुझे एक आध्यात्मिक संत के ग’लत इरादों का अनुभव भी हुआ, जिसने मेरा फायदा लेने की कोशिश की और ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि मेरी उम्र काफी कम थी और मेरा परिवार उस पर जरूरत से ज्यादा विश्वास करता था. वह वो व्यक्ति था जो काफी व्यवहारिक और ता’र्किक बातें करता था और मैंने उस पर भरोसा करना शुरू कर दिया था. मेरा पूरा परिवार उस पर काफी आस्था रखता था, और उसने 17-18 साल की उम्र में मेरा फायदा लेने की कोशिशें शुरू कर दीं और ये बात मुझे काफी लम्बे समय तक डराती रही.’

मेरी जिंदगी का काफी बु’रा तर्जु’बा’
शुक्र है, कि मैं भले ही काफी छोटी थी, लेकिन मैंने उसे अपना फा’यदा नहीं लेने दिया और उस स्थि’ति से बचकर निकल पाने में का’मया’ब हो पाई क्योंकि मुझे पता था कि मुझे अपने अंदर की आवा’ज को सुनना था, हालां’कि मुझे खुद उस आवाज से काफी देर तक लड़ना पड़ा था. मैंने उसके इ’रादे कुछ मु’लाकातों में ही भांप लिए थे, मुझे अहसा’स हुआ कि कुछ तो अलग है. मैं खुद की सोच पर ही संदेह करती रही क्योंकि मैं उस पर काफी विश्वा’स करने लगी थी. ये मेरी जिंदगी का काफी बुरा तर्जु’बा था.’ आपको बता दें कि आ’श्रम 2- द डा’र्क साइ’ड 11 नवम्बर 2020 से ए’मएक्स प्ले’यर पर स्ट्री’म करने लगी है.