Categories
News

वैज्ञानिकों की खुली चेता’वनी: कोरो’ना के बाद आने बाली हैं ये भया’नक बीमा’री…..

हिंदी खबर

नई दिल्ली: पू’री दुनिया कोरो’ना महा’मारी से इतनी बुरी तर’ह से खौ’फ में है कि अब वैज्ञा’निकों ने अगली महा’मारी के बारे में भी पता लगा लिया है। इसके साथ ही वैज्ञा’निकों ने ये भी पता लगा लिया है कि ये महा’मारी किस देश, किस जी’व से फैलने की आ’शंका है।

वैज्ञा’निकों ने म’हामारी को लेकर ये भी बताया कि कैसे अगली महा’मारी को टा’ला जा सकता है। इस बार महा’मारी ब्राजी’ल के अमेजन जंगलों, वहां मौ’जूद चमगा’दड़ों, बंदरों और चूहों की प्रजा’तियों में मौ’जूद बैक्टी’रिया और वाय’रस से फैल सकती है। चलिए बताते हैं कि वैज्ञा’निकों ने अपनी रिस’र्च में क्या खो’ज निकाला है?

महा”मारी को लेकर ब्राजील के मा’नौस स्थित फे’डरल यूनिव’र्सिटी ऑफ अमे’जोनास के बायो’लॉजिस्ट मा’र्सेलो गो’र्डो और उनकी टीम को हा’ल ही में कूलर में तीन पाइ’ड टैमे’रिन बंदरों की स’ड़ी हुई ला’श मिली है। बताया जा रहा कि किसी ने इस कू’लर की बिजली सप्ला’ई बंद कर दी थी। जिसके बाद बं’दरों के श’व अं’दर ही स’ड़ गए।

ऐसे में मा’र्सेलो और उनकी टीम ने बं’दरों से सैंपल लिए और उसे फियो’क्रूज अमेजोनिया बा’योबैंक लेकर गए। फिर यहां पर उनकी म’दद करने के लिए जी’व विज्ञा’नी अले’सांड्रा ना’वा सामने आईं। लेकिन उन्होंने बंदरों के सैंप’ल से पैरासि’टिक वॉ’र्म्स, वाय’रस और अन्य संक्रा’मक ए’जेंट्स की खो’ज की।

इस बारे में अलेसांड्रा ने बताया कि जिस तरह से इंसान जंगलों पर क’ब्जा कर रहे हैं, ऐसे में वहां रहने वाले जी’वों में मौ’जूद वा’यरस, बैक्टीरि’या और पैथो’जेन्स इंसा’नों पर हम’ला करके संक्र’मण फै’ला रहे हैं। ठीक ऐसा ही हुआ चीन में।

उन्होंने बताया कि वहां से जो वाय’रस निकले उनकी व’जह से मिडल ई’स्ट सिंड्रोम’फैला। तभी वहीं से SARS फैला, अब वहीं से कोरो’ना वायर’स निकला, जिसने बीते लग’भग दो साल से पू’री दुनिया में तबा’ही म”चा रखी है।