Categories
News

नाइट क’र्फ्यू और लाॅकडाउन के बीच मजबूर हुई मोदी सरकार, आखिरकार लिया ये बडा फैसला….कल से ही…

खबरें

देश में को’रो’ना पर लगातार बि’ग’ड’ते हा’ला’तों के बीच आज केंद्र सरकार ने बडा फैसला ले ही लिया। सरकार ने जिन वै’क्सीन्स को दुनिया के किसी भी देश की सरकारी एजेंसी ने अप्रूव’ल दे रखा है, इन सबको भारत भी मंजूरी देने का फै’सला किया है। ताकि गम्भीर मरीजों को उन्हें दिया जा सके।

सरकार ने अपने आदेश में जिन संस्थाओं का नाम लिया है, वे अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन, जापान और WHO से जुड़ी हैं। वैक्सीन को मंजूरी देने वालों में यू’ए’स फू’ड एंड ड्र’ग ए’ड’मि’नि’स्ट्रेश’न, यू’रो’पि’यन मेडिसिन एजेंसी, यू’के’ए’म’ए’च’आ’र’ए, पी’ए’म’डी’ए जापान और वर्ल्ड हेल्थ ऑ’र्ग’ना’इ’जे’श’न शामिल हैं। सरकार इससे पहले रूस की स्पुतिनक-V को भी देश में इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे चुकी है।

100 मरीजों पर 7 दिन टेस्ट होगा, फिर वै’क्सी’ने’श’न ड्राइव में शामिल करेंगे
जिन वै’क्सी’न को सरकार ने मंजूरी दी है, उन्हें अगले 7 दिनों तक 100 मरीजों पर परखा जाएगा। उसके बाद देश के टी’काकरण कार्यक्रम में शामिल कर लिया जाएगा। सरकार का दावा है कि इस फैसले से भारत में वै’क्सी’न इंपो’र्ट करने और टीकाकरण कार्यक्रम में तेजी लाने में मदद मिलेगी।

सरकार के इस फैसले से इन दवा कंपनियों के लिए विदेशी वै’क्सी’न को भारत में बनाने की मंजूरी लेने में भी आसानी होगी।

एक दिन पहले देश को मिली तीसरी वै’क्सीन
सोमवार को ए’क्सप’र्ट कमेटी ने रूसी वै’क्सी’न स्पु’त’नि’क-V के इमरजेंसी यूज को मंजूरी दे दी थी। ड्र’ग्स कं’ट्रो’लर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने भी इसे मं’जू’री दे दी है। भारत के को’रो’ना टी’का’करण अभियान में शामिल होने वाली तीसरी वै’क्सी’न बन गई है। इस बीच, रशियन डायरेक्ट इंवेस्टमेंट फंड (RDIF) ने कहा कि भारत दुनिया का 60वां देश है, जिसने स्पु’त’नि’क-V के इमरजेंसी यूज को मंजूरी दी है।

16 जनवरी को टीकाकरण शुरू हुआ था


भारत में 16 जनवरी को टी’काक’रण शुरू हुआ था और इसके लिए इसी साल की शुरुआत में को’वीशी’ल्ड और कोवै’क्सिन को मंजूर किया गया था। को’वीशी’ल्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ए’स्ट्राजेने’का ने मिलकर बनाया है। भारत में पुणे का सीरम इं’स्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) इसका प्रोडक्शन कर रहा है। कोवै’क्सिन को भारत बायोटेक ने इंडियन काउं’सिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) और नेशनल इंस्टी’ट्यूट ऑफ वा’यरो’लॉ’जी (NIV) के साथ मिलकर बनाया है।