Categories
Other

इस जानवर को खाने से फ़ैल रहा हैं कोरोना वायरस, जानकर हैरान रह जाएंगे

यह बात तो लगभग सभी को पता है कि जिस तरह से रैबीज के वायरस के लिए कुत्तों को जिम्मेदार माना जाता है उसी तरह से कोरोना वायरस के फैलने के लिए जंगली जानवरों के सेवन को जिम्मेदार माना जा रहा है. जंहा अभी तक सबसे बड़ा कारण चमगादड़ों को माना जा रहा है. आपको बता दें कि चाइना में हर तरह से पशु पक्षी खाए जाते हैं, उनकी खरीद बिक्री वहां बहुत तेजी से होती है.

Students line up to sanitize their hands to avoid the contact of coronavirus before their morning class at a hight school in Phnom Penh, Cambodia, Tuesday, Jan. 28, 2020. China on Tuesday reported 25 more deaths from a new viral disease, as the U.S. government prepared to fly Americans out of the city at the center of the outbreak. (AP Photo/Heng Sinith)

कोरोना वायरस का सबसे बड़ा केंद्र वुहान है. आपको बता दें कि इस बीमारी का केन्द्र भी वहीं है. लेकिन चाइना के वुहान शहर में इन अजीबोगरीब जानवरों को खरीब-बिक्री की सबसे बड़ी बाजार है, वहीं से इस खतरनाक वायरस का जन्म माना जा रहा है. वायरस इतना खतरनाक है कि जो इसकी चपेट में आ रहा है एक हफ्ते के दौरान उसकी मौत निश्चित बताई जा रही है. वैसे चाइना में तमाम वैज्ञानिक इस वायरस का टीका खोजने में लगे हुए हैं।

वहीं इस बात कि जानकारी मिली है कि उधर पूरी संसार में इस वायरस को लेकर एलर्ट घोषित किया जा चुका है. जिन राष्ट्रों के नागरिक व स्टूडेंट चाइना के किसी भी शहर में किसी वजह से रह रहे हैं उन सभी को पहले ही सावधान कर दिया गया है, साथ ही उनसे एहतियात बरतने को भी बोला जा रहा है जिससे वो इसकी चपेट में ना आने पाएं। हिंदुस्तान भी चाइना के शहरों में फंसे अपने स्टूडेंट व अन्य लोगों को फरवरी के पहले हफ्ते में वहां से एयरलिफ्ट करने की तैयारी में है।

वुहान में बेचे जाते हैं चमगादड़: वहीं जानपड़ताल जब कि गई तो पता चला कि चाइना के जिस वुहान शहर से इस वायरस की उत्पत्ति मानी जा रही है, वहां की बाजार में चमगादड़ भी बेचे खरीदे जाते हैं। चाइना में चमगादड़ का सूप पीने का भी एक रिवाज है। कुछ शौकीन लोग चमगादड़ को खाते भी है। कोरोनावायरस के आनुवंशिक विश्लेषण ने वैज्ञानिकों को यह सोचने के लिए प्रेरित किया है कि ये वायरस सांपों में पाए गए, फिर उनसे चमगादड़ों में पहुंचे, चमगादड़ों का सेवन करने से ये मनुष्य में पहुंचे व अब ये अपने विकराल रूप में हैं। ब्रिटेन में रहने वाले चमगादड़ों(बैट्स) की 18 भिन्न-भिन्न प्रजातियां हैं। इनमें से कुछ चमगादड़ों की प्रजातियां मनुष्यों के आसपास भी रहती है जबकि कुछ जंगली इलाकों में ही रहते हैं। कई बार इन चमगादड़ों को लोग पकड़ते हैं व उनको इस तरह के बाजारों में लाकर बेच देते हैं।