Categories
News

से’ना में खुशी की ल’हर : 9 साल बाद मिली बड़ी का’मया’बी…

खबरें

एक समय था कि उ’ल्फा का आ’तं’क बहुत ज्यादा था। 90 के दश’क में नॉर्थ ई’स्ट इं’डिया या’नी उ’त्तर-पू’र्वी भारत में इ’नस’र्जें’ट ग्रुप उ’ल्फा उ’ग्रवा’दी था। लेकिन समय के साथ सुर’क्षाब’लों ने इस सं’गठ’न पर ऐसी न’केल कसी कि उस’की न सिर्फ ग’तिवि’धि’यां ख’त्म हुईं बल्कि उसका वजूद ही ख’त्म हो चला। अब उ’ल्फा भा’रत स’र’का’र के साथ बा’तची’त की मे’ज पर बै’ठा है लेकिन जब उ’ल्फा के क’मांड’रों ने भा’रत स’रकार के साथ बा’तची’त शुरू करने की शु’रूआ’त की तो उसी समय एक ध’ड़ा परे’श ब’रुआ के साथ अ’लग हो गया और एक नया सं’गठ’न उ’ल्फ़ा बनाया।

मो’स्टवां’टे’ड प’रेश ने भा’रत से भा’गकर ची’न गया

हालांकि मो’स्टवां’टे’ड प’रेश तो भा’रत से भा’गकर ची’न चला ग’या और उसके पीछे बा’गडो’र संभा’ली उसके डि’प्टी क’मांड’र इन ची’फ दृ’ष्टि रा’जखो’वा ने। लेकिन भा’रतीय से’ना के इं’टेली’जें’स विं’ग ने एक ऐसा ऑ’परेश’न चलाया जो कि नौ साल तक चला और जिसका न’तीजा है कि दृ’ष्टि रा’जखो’वा को आ’त्मस’मर्प’ण करना पड़ा। बुध’वार को मेघा’लय में रा’जखो’वा ने अपने चार बॉ’डीगा’र्ड के साथ से’ना के सा’मने स’रेंड’र कर दिया।

रा’जखो’वा 2011 तक उ’ल्फ़ा के 109 ब’टा’लि’य’न का क’मांड’र था

स’रेंडर के पी’छे की कहानी और भी दि’लच’स्प है। मि’लेट्री इंटे’ली’जेंस ने इस ऑ’परे’श’न को साल 2011 में तब शुरू किया जब उ’ल्फ़ा क’मां’ड’र इन ची’फ प’रेश ब’रुआ ने 2011 में डि’प्टी क’मांड’र इन ची’फ बनाया था। इससे पहले रा’ज’खो’वा 2011 तक उ’ल्फ़ा के 109 ब’टालि’य’न का क’मांड’र था। से’ना ने ऑ’परेश’न के त’हत एक कै’प्टन ने रा’ज’खो’वा के साथ सं’पर्क बनाया और पिछले 9 सा’लों में अ’लग अलग जगह पो’स्टिंग के बा’वजू’द उससे लगातार सं’पर्क ब’नाए रखा और स’रेंड’र करके मुख्य धा’रा में आने का द’बा’व बनाए रखा।

ऐसे तै’यार की गई स’रेंड’र प्ला’न की रू’परे’खा

चूंकि ये एक बड़ा ऑ’परेश’न था तो खुद दिल्ली में से’ना मु’ख्याल’य में मि’लेट्री इंटे’लि’जें’स के डी’जी के ने’तृत्व इस स’रेंडर प्ला’न की रू’परे’खा तै’यार की गई। उसके मु’ताबि’क 11 नवंबर को आ’धी रा’त को एक ऑ’परेश’न लॉ’न्च‍ किया गया। त’क’रीब’न 2 बजे रा’जखो’वा ने अपने चार बॉ’डीगा’र्ड के साथ से’ना के रे’ड हॉ’र्न डि’वी’ज़न के सामने आ’त्म’सम’र्प’ण कर दिया। उन सभी के पास से एक AK-81 और 2 पि’स्ट’ल भी से’ना को सौं’प दिए गए। फि’लहा’ल से’ना रा’जखो’वा को किसी अन्य स्था’न पर ले गई है।

रा’जखो’वा एक ए’नका’उंट’र में बच नि’कला था

अगर रा’जखो’वा की बात करें तो सु’रक्षाब’लों के र’डार पर वो काफी दिनों से था। कई बार ये सु’रक्षा’ब’लों के साथ हुई मु’ठभे’ड़ में बच निकला था। इसी साल 20 अक्टूबर को ही रा’जखो’वा एक ए’नका’उं’टर में बच निकला था। रा’जखो’वा एक आ’रपी’जी ए’क्सप’र्ट है जिसे उ’ल्फ़ा क’मांड’र इन ची’फ परे’श ब’रुआ ने 2011 में डि’प्टी क’मांडर इन ची’फ बनाया था और ना’र्थ इ’स्ट में कई ह’म’लों को रा’ज’खो’वा ने अं’जा’म दिया है और नॉ’र्थ ई’स्ट के रा’ज्यों यहां तक कि बां’ग्लादे’श में गन र’निंग का मा’स्टर’माइं’ड माना जाता है और उ’त्तर पू’र्व के रा’ज्यों में स’क्रिय उ’ग्रवा’दी सं’गठ’नों को ह’थि’या’र मु’है’या कराता है।