Categories
News

अमित शाह ने की अर्नब की गि,रफ्ता’री की निं’दा, क’हा – ‘कांग्रेस और उसके सहयो’गि’यों ने फिर किया लोकतंत्र को शर्म’सार’

हिंदी खबर

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को रिप’ब्लिक मी’डि’या नेट’वर्क के एडि’टर इन चीफ अर्नब गो’स्वा’मी पर मुं’ब’ई पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई की निंदा की और लोक’तंत्र के चौथे स्तंभ को निशाना बनाने के लिए कांग्रेस की अगुवाई वाली एमवीए सरकार को ‘राज्य सत्ता के दुरुपयोग’ के लिए लताड़ लगाई।

बुधवार की तड़के सुबह फोर्स के अधिकारी अचा’नक एडि’टर इन चीफ अर्नब गोस्वामी के आ’वा’स पर पहुंचे और बिना किसी दस्ता’वेज के, अर्न’ब के घर में घुस’कर उनके साथ मारपीट की। ये पूरा वा’क्य रिप’ब्लि’क के कैमरे कैद हो गया। वहीं मुं’ब’ई पु’लि’स ने उन्हें बिना किसी पूर्व सूच,,,ना के गिरफ्ता”र कर लिया और अपने साथ ले गई। 

अमित शाह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि कां”ग्रेस और उसके सहयो”गियों ने एक बार फिर लोकतंत्र को शर्मसार किया। रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वा”मी के खिलाफ राज्य की सत्ता का दुरुप::योग व्य’क्ति’गत स्वतंत्रता और लोक’तंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला है। यह आ’पात’काल की या’द दिलाता है। 

बीजेपी नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों ने खो’ला मोर्चा 

भार’ती’य जन’ता पा’र्टी के अ’ध्य’क्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘प्रत्’येक व्य’क्ति जो एक स्व’तंत्र प्रेस और अ’भि’व्य’क्ति की स्वतंत्रता में विश्वास करता है वो महा”रा’ष्ट्र स’रका’र द्वारा अर्नब गोस्वामी के साथ किए जा रहे उत्पीड़न से उग्र है। यह सोनि’या और राहुल गांधी द्वारा निर्देशित उन लोगों को चुप कराने का एक और उदाहरण है जो उनसे असहमत हैं। शर्म:ना’क!’

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, ‘भारत ने आ’पात’काल” के लिए इंदि’रा गां’धी को माफ नहीं किया। भारत ने कभी भी प्रेस की स्वतं”त्रता पर हमला करने के लिए राजीव गांधी को माफ नहीं किया। और अब एक बार फिर से राज्य की शक्ति का दुरुपयोग करके पत्रकारों पर हमला करने के लिए सोनि’या-राहुल गांधी को देश माफ नहीं करेगा।’

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि महाराष्ट्र में मीडिया की स्वतंत्र”ता पर इस हमले की कड़ी निंदा कर’ता हूं। ये फा’सीवा’दी कदम अ’घो’षित आपात’काल का संके’त’ है। अर्नब गो’स्वा’मी पर हमला सत्ता के दुरुपयोग का उदाहरण है। हम सभी को भारत के लोकतंत्र पर हम’ले के खिलाफ खड़ा होना चाहिए।

कें’द्री’य मंत्री स्मृ’ति ई’रा’नी ने क’हा कि मी’डि’या के जो लोग आज अर्नब के सम’र्थन में खड़े नहीं हैं, वो फासीवाद के समर्थन में हैं। आप ‘अर्न”ब को पसंद नहीं करते हों, आप उन्हें स्वीकार नहीं करते हों, आप उस’के अ’स्ति’त्व को तु’च्छ समझते हों। लेकि’न अगर आप चुप रह’ते हैं तो आप दमन का समर्थन करते हैं। कौन बोलेगा अगर अगला नंबर आपका हो।

इसी बीच बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने लिखा कि फासीवाद के संकेत। एक दु’श्म’न की पहचान (अर्नब गोस्वामी) एकीकर’ण का कारण है। इसका मतलब ‘ की आ’जादी मीडिया के दमन का कारण बन सक’ती है। ले’कि’न मान’वाधि’कारों के चैंपि’यन अब क्यों चुप हैं। हर किसी के मानवाधिकार मायने रखते हैं। भले ही आप सहमत न हों!