Categories
Other

लड़की की बहन ने कहा कुछ ऐसा- जिसे सुनकर आपके आंखे नम हो जाएंगी

उन्नाव केस पीड़िता की आज इलाज के दौरन जान चली गई. वे 90% तक जल चुकी थी. वहीं गुरुवार सुबह शिवम, शुभम समेत 5 अभियुक्त ने पीड़िता को जला दिया था. दो दिन पहले अभियुक्त जमानत पर रिहा हुए थे. पीड़ित लड़की एक किलोमीटर तक मदद के लिए दौड़ती रही और इस दौरान बुरी तरह जल गई. उसे पहले लखनऊ और फिर एयर एंबुलेंस से दिल्ली भेजा गया है। पुलिस ने सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है।

उसी के संबंध में पीड़िता की बहन ने दैनिक भास्कर से बातचीत में की और कहा कि जिस तरह से तेलंगाना में डॉक्टर को इंसाफ मिला, उसी तरह उसकी बहन को भी इंसाफ मिलना चाहिए. ज्यादती करने वालों को हैदराबाद पुलिस की तरह ही कार्रवाई करनी चाहिए.आइए आपको बताते है पीड़ित की बहन ने क्या कहा…सुनकर आप भी भावुक हो जाएंगे 

पीड़ित की बहन ने कहा कि”मेरी बहन पुलिस में शामिल होना चाहती थी, लेकिन उसके साथ ऐसा हादसा हो गया. वह मेरे और भााई के साथ रायबरेली जाने वाली थी, हम लोग नहीं गए तो बहन अकेले ही जाने के लिए तैयार हो गई थी. हमें बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि इस बात का. हमें तो पुलिसवालों ने भी नहीं बताया कि ऐसा कुछ हो गया है। हमें उस इंसान से यह खबर मिली, जिसने उसे सबसे पहले घटनास्थल पर देखा था. भागते हुए हम सब उन्नाव अस्पताल गए थे पुलिस ने यहां भी हमारे साथ कोई हमदर्दी नहीं दिखाई. हमारे साथ पुलिस का रवैया हमेशा से ही ऐसा रहा है. 12 दिसंबर 2018 को शुभम और शिवम त्रिवेदी ने मेरी बहन के साथ असलहे के दम पर गन्दा काम किया था. हम तीन महीने तक चक्कर लगाते रहे, लेकिन पुलिस हर बार यह कहकर हमें लौटा देती थी कि मामला हमारे क्षेत्र का है ही नहीं. दूसरे थाने जाते थे तो वहां भी यही जवाब देकर वापस भेज दिया जाता था. शिवम और शुभम प्रभावशाली हैं. शुभम प्रधान का बेटा है. जब कोई रास्ता नहीं बचा तो हम वकील की सलाह पर कोर्ट गए और वहां से केस दर्ज हुआ. शिवम सितंबर में कोर्ट में पेश हो गया था, लेकिन शुभम को पुलिस ने कभी गिरफ्तार नहीं किया था. वह गांव में ही रहता था और हम लोगों को केस वापस लेने के लिए धमकाता था. बहन ही नहीं, मुझे और पूरे परिवार को अभियुक्तों ने निशाना बनाया. 4 महीने पहले मैं अपनी बुआ के पास रायबरेली जा रही थी, तब गाड़ियों में कुछ लड़कों ने मेरा पीछा किया. मैंने 1090 पर फोन किया, लेकिन पुलिस नहीं पहुंची. किसी तरह छिपते-छिपाते में घर तक पहुंची थी. मैं और मेरी बहन पढ़े-लिखे हैं. बहन का सपना पुलिस फोर्स में जाने का था, लेकिन केस के चक्कर में ऐसा उलझी कि जिंदगी बर्बाद हो गई. मैं सिलाई करती हूं. भाई दिल्ली में मजदूरी करता है. पिता किसान हैं. जैसे-तैसे घर का खर्च चलता है। हम लोगों ने नौकरी के लिए तमाम कोशिशें कीं, लेकिन अभियुक्तों ने हमें ऐसा बदनाम किया कि कहीं नौकरी नहीं मिली. हमारे रिश्तेदारों ने भी हमसे किनारा कर लिया है. हम 5 बहनें हैं. 3 की शादी हो गई. मां-बाप हर वक्त यही सोचते रहते हैं कि हमारी शादी कैसे होगी? और कौन हमसे शादी करेगा?”

195 replies on “लड़की की बहन ने कहा कुछ ऐसा- जिसे सुनकर आपके आंखे नम हो जाएंगी”

Leave a Reply

Your email address will not be published.