Categories
News

बुरी खबर-: भारतीय राजनीति में दौड़ी शो’क की लहर, स’दमें में कांग्रेस आलाकमान, नही रहें राजस्थान के………..

खबरें

भीलवाड़ा की सहाड़ा सीट से कांग्रेस वि’धाय’क कैलाश त्रिवेदी का मंगलवार त’ड़के नि’ध’न हो गया। त्रिवेदी का गु’ड़गां’व के एक नि’जी अ’स्पताल में उपचार चल रहा था। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदे’शाध्य’क्ष गो’विंद सिंह डो’टास’रा सहित अन्य नेताओं ने उनके नि’ध’न पर शो’क जताया है।

त्रिवेदी (65) को पिछले महीने उपचार के लिए यहां एसएमएस अ’स्पता’ल में भ’र्ती कर’वाया गया था। उनके को’रो’ना वा’यर’स से संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। बाद में उनकी रि’पोर्ट नि’गेटिव आई, लेकिन फे’फड़े संबंधी अन्य दि’क्क’तों के चलते उनकी हा’लत बि’गड़ गयी। बाद में उन्हें गुड़गांव के अ’स्पता’ल में भेजा गया।

मु’ख्यमं’त्री गह’लोत ने त्रि’वेदी के नि’ध’न पर शो’क ज’ता’ते हुए उनके परिवार के प्रति सं’वेदना’एं जताई हैं।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा, पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित अन्य नेताओं ने भी त्रिवेदी के नि’ध’न पर शो’क जताया है।

पहले भीलवाड़ा और बाद में जयपुर में उपचाररत रहे थे, लेकिन दिन प्रतिदिन बि’गड़’ती हा’लत के बाद उन्हें 5 दिन पूर्व ही राज्य सरकार ने एयर ए’म्बुलें’स से गु’रु’ग्राम मे’दां’ता अ’स्पताल में शि’फ्ट करवाया था.

वहां भी उनकी हालत में किसी तरह का कोई सुधार नहीं हुआ. उसके बाद आज सुबह 8 बजकर 17 मिनिट पर उनके नि’ध’न की आ’धि’कारि’क घो’ष’णा की गई. त्रि’वेदी का पूरा परिवार पं’चायत राज में प्रधान पद पर रह चुका है. उनके पिता भं’वरलाल त्रिवेदी रा’यपुर पंचा’यत समिति के प्र’धान रहे थे. चाचा श्याम त्रिवेदी और खुद कै’लाश त्रिवेदी तथा उनकी पत्नी गा’यत्री त्रि’वेदी प्र’धा’न रह चुके हैं. पि’ता की रा’जनी’ति की वि’रास’त सं’भाल’ने के बाद त्रिवेदी प’ह’ली बार 2003 में वि’धाय’क चु’नकर वि’धा’न’स’भा पहुंचे.