Categories
Other

रेलवे के लिए इस बार बजट में क्या चीज़ें है ख़ास, जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2020-21 का आम बजट पेश कर दिया है. आपको बता दें कि इस बजट में वित्त मंत्री ने इंडियन रेलवे के लिए कई बड़े-बड़े ऐलान किए हैं. वित्त मंत्री ने कहा कि रेलवे की कमाई बहुत कम है, इसलिए अब सौर ऊर्जा तैयार करने के लिए रेलवे की जमीन का इस्तेमाल किया जाएगा.

साथ ही वित्त मंत्री ने कहा है कि देश में तेजस जैसी 150 और ट्रेनें चलाई जाएंगी. साथ ही तेजस ट्रेनों को देश के प्रमुख पर्यटन स्थलों से जोड़ा जाएगा. वित्त मंत्री ने कहा कि साल 2024 तक भारतीय रेल पूरी तरह बिजली से चलाई जाएगी.

रेलवे को इस बजट में क्या मिला
आपको बता दें कि पूर्व रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने अपने कार्यकाल में 2020 तक सभी लोगों को कन्फर्म टिकट मिलने की बात कही थी. वहीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कहा है कि पीएम मोदी का सपना है कि भारतीय रेल को इकोनॉमी का ग्रोथ इंजन बनाने पर ज्यादा जोर दिया जाए. वित्त मंत्री ने आगे कहा है कि देश के 550 रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई की सुविधा उपलब्ध करा दी गई है. साथ ही रेलवे क्रॉसिंग को पूरी तरह से खत्म कर दिया गया है. वहीं अब 27 हजार किलोमीटर ट्रैक का इलेक्ट्रिफिकेशन किया जाएगा.

आम बजट 2020 में मोदी सरकार ने भारतीय रेलवे के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए कई उपाय सुझाए हैं. मोदी सरकार ने 100 दिनों के भीतर रेलवे की उपलब्धियों को सूचीबद्ध करते हुए निम्नलिखित 10 उपायों का प्रस्ताव दिया है.

1- रेलवे के स्वामित्व वाली भूमि पर रेल पटरियों के साथ एक बड़ी सौर ऊर्जा क्षमता स्थापित करना
2- पीपीपी मोड के माध्यम से चार स्टेशन और 150 यात्री ट्रेनों का संचालन किया जाएगा
3- तेजस जैसी और ट्रेनों को देश के प्रतिष्ठित पर्यटन स्थलों से जोड़ेगी.
4- मुंबई से अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड ट्रेन को सक्रिय रूप से चलाया जाएगा.
5- 18, 600 करोड़ रुपये की लागत से 148 किमी लंबी बेंगलुरू उपनगरीय परिवहन परियोजना शुरू की जाएगी, जिसका किराया मेट्रो मॉडल की तरह होगा. केंद्र सरकार 20 प्रतिशत फंड देगी और बाहर से 60 प्रतिशत धन जुटाया जाएगा.
6-100 लाख करोड़ का नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर फंड बनाया जाएगा
7- नेशनल गैस ग्रिड की शुरुआत की जाएगी
8- 27 हजार किलोमीटर ट्रैक का विद्युतीकरण किया जाएगा
9- पावर एनर्जी के लिए 22 हजार करोड़ का प्रावधान
10- दिल्ली-मुंबई और चेन्नई-बेंगलुरु एक्सप्रेस-वे का काम जल्द पूरा होगा.