Categories
धार्मिक

लगने जा रहा है साल का पहला चन्द्र ग्रहण क्या कर देगा ये चंद्रग्रहण महामारी का अंत??

धार्मिक

साल 2021 का पहला ग्रहण 26 मई को लगने जा रहा है। ये चंद्र ग्रहण होगा जो वैशाख पूर्णिमा के दिन लगेगा। ज्योतिष अनुसार चंद्र को ग्रहण लगना अशुभ माना जाता है। जिसका नकारात्मक प्रभाव सभी राशि के जातकों पर पड़ता है। ये एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। ग्रहण से पहले सूतक काल लग जाता है लेकिन इस ग्रहण का सूतक मान्य नहीं होगा। जानिए इस चंद्र ग्रहण से संबंधित सभी जरूरी जानकारी…

चंद्र ग्रहण का दिन और समय: चंद्र ग्रहण बुधवार 26 मई को लगने जा रहा है। भारतीय समय के अनुसार इस ग्रहण का प्रारंभ दोपहर 2 बजकर 18 मिनट से होगा और इसकी समाप्ति शाम 7 बजकर 19 मिनट पर होगी। उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने के कारण इसका सूतक मान्य नहीं होगा। इस ग्रहण की कुल अवधि 5 घंटे के करीब की होगी। ग्रहण बुद्ध पूर्णिमा पर लगने जा रहा है।

क्यों नहीं लगेगा सूतक: ज्योतिष अनुसार केवल उसी ग्रहण का सूतक माना जाता है जो ग्रहण खुली आंखों से देखे जा सकें। उपच्छाया चंद्र ग्रहण को देखने के लिए विशेष तरह के उपकरणों का प्रयोग किया जाता है। नंगी आंखों से देखने पर उपच्छाया चंद्र ग्रहण और सामान्य पूर्णिमा के चांद में कोई अंतर समझ नहीं आता है। इसलिए ये ग्रहण ज्योतिष अनुसार मान्य नहीं होता है। साथ ही चंद्र ग्रहण भारत में दिन के समय लग रहा है इस लिहाज से भी लोग ग्रहण को नहीं देख पाएंगे। मेहनती, दयालु और विजय के अभिलाषी होते हैं इस नक्षत्र में जन्मे लोग, कंगना रनौत का भी यही है नक्षत्र