Categories
Other

कंप्‍यूटर में Cut-Copy-Paste के पीछे जिस शख्स का दिमाग था, उनका आज हुआ निधन

आज के समय में हर कोई कंप्‍यूटर पर ही काम कर रहा है. कॉपी और पेन को धीरे धीरे खत्म ही होता जा रहा है. क्या आप कभी कल्‍पना कर सकते है कि यदि कंप्‍यूटर में कट, कॉपी और पेस्‍ट की सुविधा नहीं होती तो हम लोगों की जिंदगी कितनी कठिन होती? दोस्तों इस कट, कॉपी और पेस्‍ट की सुविधा से बड़े-बड़े काम पलक झपकते ही पूरे हो जाते हैं. पर क्या आप जातने है उस महान शख्स का नाम जिसने हमें ये सुविधा प्राप्त कराई है.

आपको बता दें दोस्तों कि कंप्‍यूटर में इस यूजर इंटरफेस के बनाने वाले वैज्ञानिक का नाम लैरी टेस्‍लर हैं. इनका 20 फरवरी 2020 को निधन हो गया. बताते चले कि कंप्‍यूटर साइंटिस्‍ट लैरी टेस्‍लर का 74 वर्ष तक जिये की आयु में ही निधन हो गया है. लैरी टेस्‍लर ने 1960 के दशक में ऐसे वक्‍त कंप्‍यूटर की दुनिया में काम शुरू किया था जब कंप्‍यूटर के बारे में ज्‍यादा लोगों को जानकारी भी नहीं थी. जानकारी के मुताबिक बता दें कि उन्‍होंने अपने करियर का ज्‍यादातर हिस्‍सा Xerox कंपनी में बिताया था. निधन के बाद कंपनी ने उनको श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि कट, कॉपी और पेस्‍ट, फाइंड और रिप्‍लेसमेंट के जनक और जीरॉक्‍स के पूर्व रिसर्चर लैरी टेस्‍लर का निधन हो गया. इसके साथ ही कहा कि आपके क्रांतिकारी विचारों से काम आसान हुआ.

आपको बता दें दोस्तों की लैरी टेस्‍लर का 1945 में न्‍यूयॉर्क के ब्रांक्‍स में जन्‍म हुआ था. उन्‍होंने कैलिफोनिया के स्‍टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की थी. जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने 1973 में जीरॉक्‍स ज्‍वाइन किया था. वहीं पर उन्‍होंने टिम मॉट के साथ मिलकर जिप्‍सी टेक्‍स्‍ट एडिटर तैयार किया था. इसी में उन्‍होंने कंटेंट को कॉपी और एक जगह से दूसरी जगह मूव कराने के लिए मोडलेस मैथड तैयार किया था. यहीं से कट, कॉपी और पेस्‍ट की संकल्‍पना मूर्त रूप में उतरी.

(PARC) Xerox Palo Alto Research Center जीरॉक्‍स से लंबे समय से जुड़े रहने के बाद स्‍टीव जॉब्‍स उनको Apple में ले आए थे. जहां उन्‍होंने 17 साल काम किया. इस दौरान वो चीफ साइंटिस्‍ट के पद तक पहुंचे. आपको बता दें कि Apple छोड़ने के बाद उन्‍होंने एजुकेशन स्‍टार्ट अप शुरू किया. हालांकि इस दौरान वो कुछ समय तक के लिए अमेजन और याहू से भी जुड़े रहे थे.