Categories
Other

इस ब्लड ग्रुप वालों को ज्यादा होता है कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा

दुनियाभर में अब तक 120 देशों में कोरोना वायरस फैल चुका है. कोरोना वायरस ने भारत में भी अपने पैर पसार लिए है. कोरोना वायरस का प्रकोप दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है. इसे देखते हुए सरकार भी कड़े कदम उठा रही है. आपको बता दें कि भारत में भी 153 लोग इसके संक्रमण में आ गए है.

आपको बता दें कि अब इसको लेकर एक महत्वपूर्ण जानकारी सामने आई है. एक रिसर्च के जरिए ये पता लगाने की कोशिश की गई है कि किस ब्लड ग्रुप के लोगों को कोरोना वायरस होने का खतरा ज्यादा होता है. रिसर्च के नतीजों से पता चलता है कि जिन लोगों का ब्लड ग्रुप ए है, उन्हें कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है. रिसर्च के मुताबिक ओ ब्लड ग्रुप वालों की तुलना में ए ब्लड ग्रुप वालों को कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है.

ब्लड ग्रुप को लेकर ये रिसर्च चीन के वुहान शहर में हुई है. आपको बता दें कि वुहान से ही सबसे पहला मामला कोराना का पहला संक्रमण सामने आया था. बताते चलें कि वुहान में हुए रिसर्च में बताया गया है कि कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों में ए ब्लड ग्रुप वालों की सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं. एक आंकड़े के मुताबिक ओ ग्रुप वाले करीब 34 फीसदी लोग हैं तो ए ग्रुप वाले करीब 32 फीसदी. इसके बावजूद कोरोना वायरस के संक्रमण होने की संभावना ए ब्लड ग्रुप वालों में ज्यादा होती है.

जानकारी के मुताबिक वुहान में हुए रिसर्च में बताया गया है कि कोरोना वायरस के कुल संक्रमित मरीजों में ओ ब्लड ग्रुप वालों की संख्या 25 फीसदी रही, वहीं ए ग्रुप वाले करीब 41 फीसदी रहे है. आपको बता दें कि इस रिसर्च की अभी समीक्षा होनी बाकी है. वुहान के रिसर्चर्स इस बात को बताने में असमर्थ हैं कि आखिर ए ब्लड ग्रुप वालों में वायरस का संक्रमण ज्यादा क्यों फैल रहा है.

बताते चलें कि इस रिसर्च में कोरोना से संक्रमित 2173 लोगों को शामिल किया गया था. इनमें से 206 लोगों की संक्रमण की वजह से मौत हो गई. सारे संक्रमित मरीज हुबेई प्रांत के तीन हॉस्पिटलों में भर्ती थे. रिसर्च में संक्रमित व्यक्तियों के साथ वुहान के 3,694 ऐसे लोगों को भी शामिल किया गया था, जिनमें वायरस का संक्रमण नहीं था. ये सारे लोग भी उसी इलाके के थे.

मरने वालों में ए ब्लड ग्रुप वाले मरीजों की संख्या ज्यादा
रिसर्च में पता चला कि जिन 206 लोगों की वायरस के संक्रमण की वजह से मौत हुई थी, उनमें ए ब्लड ग्रुप वाले 85 मरीज थे. ये कुल होने वाली मौतों का 41 फीसदी है. आपको बता दें कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण के 2 लाख मामले सामने आ चुके हैं. इनमें करीब 7800 लोगों की मौत दर्ज की गई है. सिर्फ चीन में करीब 3 हजार मौतें हुई हैं.