Categories
Other

लॉकडाउन के बाद मेट्रो में करना हैं सफर तो इन नियमों मानना आपके लिए होगा अनिवार्य

कोरोना को रोकने के लिए पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है. 21 दिन के लॉकजाउन के बाद भी कोरोना का संकट कम नहीं हुआ है. कोरोना के केस दिन पर दिन बढ़ते ही जा रहे है. इस वायरस से लड़ रहे लोगों की मदद के लिए केंद्र और राज्य सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है. इस बीच केंद्रीय औद्दोगिक सुरक्षा बल यानी की सीआईएसएफ ने एक नया एलान किया है. आइए जानते है क्या बोला है सीआईएसएफ ने.

सीआईएसएफ के अनुसार लॉकडाउन खुलने के बाद भी अगर यात्रियों को दिल्ली मेट्रो में सफर करना है तो सभी को जांच से पहले धातु की चीजों को हटाना होगा, मास्क पहनना होगा, मोबाइल में आरोग्य सेतु एप भी रखना होगा और जिन यात्रियों में फ्लू के लक्षण होंगे, उन्हें यात्रा की अनुमति नहीं मिलेगी.

जानकारी के अनुसार दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) और शहरी विकास मंत्रालय के फैसले के बाद ही सीआईएसएफ की प्रस्तावित योजना को लागू किया जाएगा. योजना में कहा गया है, ‘’आरोग्य सेतु एप्लिकेशन से जारी ई-पास से कोविड-29 के लक्षण वाले संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान उन्हें मेट्रो के उपयोग से रोका जा सकता है. मेट्रो परिसर में प्रवेश करने वाले हर व्यक्ति के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा साथ ही हर प्रवेश गेट पर हैंडवाश और हैंड सैनिटाइजर की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी.”

प्रस्ताव के अनुसार प्रत्येक स्टेशन में प्रवेश से पूर्व थर्मल जांच की जाएगी और खांसी, जुकाम जैसे फ्लू के लक्षणों के साथ ही जिनका शारीरिक तापमान सामान्य नहीं होगा, उन्हें प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी. सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन बताया कि इस प्रस्ताव को यह ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है कि यात्रियों, बल के कर्मियों, डीएमआरसी के कर्मियों और परिसर के अन्य लोगों की गति, सुरक्षा और संरक्षा को सुनिश्चित किया जा सके. बल ने सुझाव दिया है कि सभी यात्रियों को बेल्ट, बकल्स जैसे धातु की चीजें जांच से पूर्व उतारना हेागा।