Categories
Other

दिल्ली हिं’सा: 23 फरवरी से लेकर अब तक कहां क्या हुई घटना

दिल्ली में हो रही हिं’सा की वजह से हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल समेत 7 लोगों की मौ’त हो गई है. साथ ही 8 लोग गंभीर रूप से घा’यल हो गए हैं और बात करें कुल घायलों की संख्या की तो वो 100 से ज्यादा हो गई है. आपको बता दें कि घायलों को जीटीबी समेत दूसरे अस्पतालों में भर्ती कराया गया है.

जानकारी के मुताबिक उत्तर-पूर्वी दिल्ली में इस घट’नाक्र’म की शनिवार रात से शुरुआत हुई है, जब कुछ महिलाओं ने CAA के वि’रोध में प्रद’र्शन शुरू कर दिया और फिर मेट्रो स्टेशन के नीचे बैठकर ध’र’ना देने लगीं. चालिए आपको बताते है कि कब कैसे कहां क्या हुआ.  

22 फरवरी वक्त- रात के 10.30 बजे

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे CAA के वि’रो’ध में धीरे-धीरे महिलाओं की भी’ड़ जुटनी शुरू हुई. महिलाओं ने स्टेशन के नीचे एक तरफ की सड़क को जाम कर दिया और विरो’ध-प्र’द’र्शन शुरू हो गया.

तारीख 23 फरवरी वक्त-सुबह के 9 बजे

जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे की सड़क बंद की वजह से ट्रैफिक की आवाजाही पर खासा असर पड़ा जिससे लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा. पुलिस ने कहा कि उन्हें राजघाट तक मार्च करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है. इस सब में बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने 23 फरवरी दोपहर को एक ट्वीट कर लोगों से सीएए के समर्थन में मौजपुर चौक पर ज’मा होने की अपील की.

23 फरवरी वक्त- 3.30-4 बजे– सीएए समर्थकों की भीड़ के बीच कपिल मिश्रा ने भड़’का’ऊ भाषण दिया. वहीं पुलिस को 3 दिन के भीतर सड़क खुलवाने का अल्टी’मे’टम दिया.

23 फरवरी वक्त 4-5 बजे – मौजपुर, मौजपुर चौक, करावल नगर, बाबरपुर और चांद बाग इलाके में हिं’सा और ब’वा’ल की शुरूआत हुई. पुलिस ने लाठी चार्ज किया, अर्द्ध’सैनिक ब’लों को बुलाया गया.

23 फरवरी रात 9-11 बजे– करावल नगर, मौजपुर, बाबरपुर और चांदबाग के इलाके में उ’पद्र’वी फिर आपस में भिड़ गए. तो वहीं उ’पद्र’वियों ने कई वाहनों और दुकानों में आग लगा दी.

24 फरवरी वक्त- सुबह 10 बजे– सीएए सम’र्थक प्रद’र्शन करते हुए सीएए विरोधियों के नजदीक पहुंच गए और नारेबाजी करने लगे.

24 फरवरी वक्त दोपहर 12-1.30 बजे- दोपहर होते-होते बाबरपुर इलाके में पत्थरबाजी शुरू हो गई. नकाब पहने और हाथ में तलवार लहराते हुए उ’पद्र’वी सड़कों पर उतर गए. पैरा मिलिट्री फोर्सेज को बुलाया गया, आंसू गैस के गो’ले दागे गए, लेकिन महिलाओं ने पानी से भरी बाल्टी फेंक कर आं’सू गैस के असर को कम कर दिया. करावल नगर, शेरपुर चौक और गोकुलपुरी में भी हिं’सा हुई. पुलिस ने ला’ठी चार्ज किया.

24 फरवरी वक्त 2.30-3.30 बजे– भजनपुरा में कई वा’हनों को आग के हवाले कर दिया. पेट्रो’ल पंप में भी आग लगा दी गई. इस हिंसा में एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई जबकि डीसीपी भी घायल हो गए.

24 फरवरी रात 10 बजे– देर रात तक हिं’सा और बवा’ल जारी रहा. रात करीब 10 बजे मौजपुर और घोंडा चौक भी हिं’सा और ब’वाल शुरू हो गया.

25 फरवरी सुबह – मंगलवार को भी हिं’सा जारी रही है. सुबह सुबह उ’पद्र’वि’यों ने पांच मोटरसाइकिल को जला दिया. मंगलवार सुबह भी मौजपुर और ब्रह्म’पुरी इलाके में प’त्थर’बा’जी की घटना हुई है.