Categories
Other

दिल्ली विधानसभा चुनाव: द‍िल्ली में मुद्दों का खेल, कौन पास-कौन फेल?

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजें साफतौर पर समाने आ चुके है और लगातार दूसरी बार दिल्ली में अरविंद केजरीवाल का जादू चलता दिखाई दे रहा है. आम आदमी पार्टी लगातार 58 सीटों से अधिक पर बढ़त बनाए हुए है, वहीं भाजपा लगातार डबल डिजिट पर संघर्ष कर रही है. साथ ही लगातार इस दूसरे विधानसभा चुनाव में भी कांग्रेस का खाता नहीं खुल पाया है.

इन चुनावों में कई मुद्दे लगातार हावी रहे है ज‍ि‍न्होंने से सबसे बड़ा मुद्दा था शाहीन बाग. आपको बता दें कि चुनाव पर‍ि‍णाम से ऐसा लग रहा है क‍ि शाहीन बाग का मुद्दा यहां फेल हुआ और द‍िल्ली के व‍िकास की जीत हुई. केजरीवाल ने चुनाव की शुरुआत से ही काम यानी विकास पर फोकस किया है. केजरीवाल हमेशा कहा कि ये चुनाव काम पर लड़ा जाएगा और जनता हमारे काम पर वोट करेगी. दिल्ली सरकार ने मोहल्ला क्लिनिक के मुद्दे पर भी जमकर प्रचार किया.

उन्होंने हर गली, चौक-चौराहे पर अपने मोहल्ला क्लिनिक को केंद्र की आयुष्मान हेल्थ कार्ड से बेहतर बताया. साथ ही द‍िल्ली में बढ़ता प्रदूषण भी एक प्रमुख मुद्दा रहा है. जिसके समाधान के ल‍िए केजरीवाल सरकार ने ऑड-ईवेन का फॉर्मूला भी अपनाया. द‍िल्ली में मह‍िलाओं का मुफ्त सफर भी एक चुनावी मुद्दा रहा है. सीएम केजरीवाल ने कहा था क‍ि हमने महिलाओं के लिए सफर फ्री कर दिया है. दिल्ली की महिलाएं खुश हैं. दुनिया में किसी ने ऐसा सोचा भी नहीं होगा.

आपको बता दें क‍ि दिल्ली विधानसभा चुनावों के नतीजे लगभग आ चुके हैं. वोटों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरू हो गई थी. बता दें 8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए मतदान हुआ था. चुनावों में आम आदमी पार्टी और बीजेपी के बीच टक्कर है. दिल्ली में 81,05,236 पुरुष मतदाता, 66,80,277 महिला मतदाता और 869 तीसरे लिंग के मतदाताओं के लिए कुल 13,570 मतदान बूथ बनाए गए थे.