Categories
Other

पूर्व केंद्रीय मंत्री का हुआ निधन, देश में छाई शोक की लहर

ऐसा लग रहा है कि जैसे ये साल राजनीतिक गालियारों के लिए कुछ खास अच्छा है क्योंकि अभी 2020 की शुरूआत के तीन महीने ही हुए है और रोज किसी न किसी बड़े नेता के निधन की खबर आ रही है. आपको बता दें कि कर्नाटक के पूर्व राज्यपाल और पूर्व कानून मंत्री हंसराज भारद्वाज का कल रात निधन हो गया है.

उनकी उम्र 82 साल की थी. आपको बता दें कि हंसराज भारद्वाज कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में गिने जाते थे. वहीं आज सोमवार को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. परिवार के बताने के मुताबिक कार्डियक अरेस्ट की वजह से हंसराज भारद्वाज का निधन हुआ है. हंसराज भारद्वाज का अंतिम संस्कार आज शाम 4:00 बजे किया जाएगा. उनके परिवार ने बताया कि दिल्ली के निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

पीएम मोदी ने जताया दुख

आपको बता दें कि हंसराज भारद्वाज के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख व्यक्त किया. प्रधानमंत्री कार्यालय ने पीएम मोदी के हवाले से ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘पूर्व मंत्री हंसराज भारद्वाज के निधन से दुखी. दुख की इस घड़ी में मेरे विचार उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ हैं. ओम शांति.’

बताते चलें कि हंसराज भारद्वाज का 19 मई 1937 को हरियाणा में जन्म हुआ था. यूपीए के कार्यकाल के वक्त कानून मंत्री के रूप में उन्होंने सबसे लंबा वक्त बिताया था. आपको बता दें कि हंसराज भारद्वाज 22 मई 2004 से 28 मई 2009 तक कानून मंत्री रहे हैं. भारद्वाज दूसरे ऐसे कानून मंत्री थे, जिनका आजादी के बाद सबसे लंबा कार्यकाल रहा था.

राज्यपाल भी रहे

आपको बता दें कि हंसराज भारद्वाज कानून मंत्री के बाद राज्यपाल के रूप में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वो कर्नाटक और केरल के राज्यपाल भी रहे हैं. 2009 से 2014 तक वो कर्नाटक के राज्यपाल रह चुके हैं तो वहीं 2012-13 तक केरल के राज्यपाल भी रहे हैं. साथ ही हंसराज भारद्वाज 1982, 1994, 2000 और 2006 में राज्यसभा सदस्य भी रह चुके हैं. वहीं ये सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के तौर पर भी अपनी पहचान रखते थे.