Categories
Other

कोरोना महामारी के चलते हो रही आर्थिक दिक्कतों को देखते हुए आयकर विभाग ने की ये घोषणा

देश में कोरोना वायरस के मामलों तेजी से बढ़ रहे है. आपको बता दें कि अब तक मरीजों की संख्या पांच हजार के पार पहुंच चुकी है. अब तक देश में इसके 5734 केस सामने आ चुके हैं. वहीं 166 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. साथ ही बता दें कि 401 लोग इलाज के बाद रिकवर भी हो चुके हैं. आपको बता दें कि देश में सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आ रहे हैं.

आपको बता दें कि अब तक महाराष्ट्र में इस वायरस के 1018 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं. वहीं 64 लोगों की मौत हो चुकी है.राजधानी दिल्ली में कोरोना के अब तक 576 और तमिलनाडु में 690 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं. इस महामारी के समय लोगों को आर्थिक दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए सरकार लगातार नए-नए एलान कर रही है. अब इसी को लेकर आयकर विभाग ने एक घोषणा की है जिसका देश के 14 लाख टैक्सपेयर्स को फायदा होगा.

जानकारी के लिए बता दें कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने एलान किया है कि वो टैक्सपेयर्स को राहत देने के लिए 5 लाख रुपये तक के रिफंड तुरंत जारी करेगा. करीब 14 लाख करदाताओं को इसका फायदा मिल पाएगा. बुधवार को ही केंद्र सरकार ने ये फैसला लिया है कि सभी कारोबारी संस्थाओं और टैक्सपेयर्स को उनके 5 बकाया रिफंड तुरंत जारी कर दिए जाएं.

सरकार की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि सभी लंबित पड़े जीएसटी और कस्टम रिफंड भी तुरंत जारी कर दिए जाएं. इसका फायदा 1 लाख कारोबारी संस्थाओं को मिल पाएगा जिसमें स्मॉल और मीडियम बिजनेस यानी एमएसएमई शामिल हैं. लिहाजा वित्त मंत्रालय के इस आदेश के बाद आयकर विभाग करीब 18,000 करोड़ रुपये के रिफंड जारी करेगा.

ऐसे ले सकते हैं रिफंड
आयकर देने वाले टैक्सपेयर्स को रिफंड लेने के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करना होता है. कारोबारी साल खत्म होने के बाद तय तारीख से पहले लोगों को इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करना होता है. अगर उनकी तयशुदा टैक्स देनदारी से ज्यादा टैक्स काटा गया होता है तो आयकर विभाग इसको जांचकर बाकी बचा टैक्स रिफंड लोगों को वापस कर देता है।