Categories
Other

पाकि-स्ता-नी आतं-कि-यों के पास है ऐसा ह-थि-यार, जिससे भारतीय सेना की बढ़ रही है टेंश-न

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आ-तंकी आदिल डार ने ह-मला करके सीआरपीएफ के काफिले पर निशाना साधा था. आपको बता दें कि अब उसके भाई समीर डार के एक बड़ा खुला-सा किया है और भारतीय सुरक्षा बलों की टेंश-न बढ़ गई है. जानकारी के मुताबिक समीर डार ने खुलासा किया है कि जैश-ए-मोहम्‍मद के आतं-कवा-दियों के पास सामान्य स्‍टील से बने ऐसे कार-तूस मौजूद हैं जिनसे बख्तरबंद गाड़ियों को भी आसानी से भेदा जा सकता है.

साथ ही खास बात ये भी है कि दुनियाभर में ये कार-तूस बैन है लेकिन फिर भी चीन देश इसे बनाता है और वहीं चीन से ही पाकि-स्ता-नी आतं-कियों को सप्‍लाई करता है. इस खुला-से के बाद से ही कश्‍मीर में सुरक्षा बलों केअब तक आतंकियों की गो-लीबा-री से बचने के लिए बख्‍तरबंद गाड़‍ियों और बंकरों का इस्‍तेमाल करने वालों की चिंता अब बढ़ गई है।

आपको बता दें कि समीर डार ने ही दिसंबर 2019 में भी जै-श-ए-मोहम्म-द के आतं-कवा-दियों को कश्‍मीर घाटी तक पहुंचाया था. समीर ने बताया था कि आतं-कवा-दियों के पास सामान्य बख्तरबंद गाड़ियों को भेदने में सक्षम स्टील के कार-तूस सहित भारी मात्रा में गो-ला-बारू-द थे. जानकारी के मुताबिक आपको बता दें कि समीर पुलवामा जिले के काकपोरा इलाके का रहने वाला है. उसे पुलि-स ने बीते शुक्रवार को पकड़ लिया है और उस समय वो जै-श आतं-कि-यों के सुरक्षाबलों पर गो-ली-बारी करने के बाद नगरोटा से भाग रहा था।

चालिए आपको बताते है कि क्‍या है स्‍टील बु-लेट और क्‍यों है इतना महत्तपूर्ण.
आपको याद दिला दें कि पिछले साल जून महीने में जम्‍मू-कश्‍मीर के अनंतनाग जिले में आतं-कवा-दियों ने फिदा-यिन हम-ला कर हमारे सुरक्षा बलों को नुक-सान पहुंचाया था. वहीं इस हम-ले की वजह से हमने सीआरपीएफ के 5 जवान को खो दिया था. सूत्रों के मुताबिक इन जवानों ने बुले-टप्रू-फ जैकेट पहन रखी थी जिसके बाद भी जवानों की जा-न चली गई. आपको बता दें कि सुरक्षाबलों की जांच में ये खुला-सा हुआ कि आतं-कवा-दियों ने स्‍टील से बनी बु-लेट का इस्‍तेमाल किया था जिसके सामने हमारे सुरक्षाबलों के बुले-ट-प्रूफ जैकेट भी बेदम साबित हुए थी।