Categories
News

अ’खिलेश के प’रिवार ने पी’एम मो’दी से ल’गाई म’दद की गु’हार, कहा-: मु’स्लिमों नें…….😭

हिंदी खबर

ई-श’निंदा के क’थित आ-रोप में गोर’खपुर का एक इं’जीनियर यू’नाइटेड अ’रब अ’मीरात (यूएई) में फं’स गया है। व’हां की अ’दालत ने इं’जीनियर को 15 सा’ल की स’जा और भा’रतीय मु’द्रा के हि’साब से एक क’रोड़ का जु’र्माना ल’गाया है। जु’र्माना न’हीं अदा करने पर ता’उम्र जे’ल की स’जा का’टनी होगी। इं’जीनियर की प’त्नी की गु’हार पर भा’रत सर’कार ने यू’एई स’रकार से द’या दि’खाकर इंजी’नियर को भार’त भेज’ने की अ’पील की है।

शा’हपुर के ब’शारतपुर नि’वासी अ’खिलेश पां’डेय दस सा’ल से यू’नियन सी’मेंट क’म्पनी रा’स अल खे’मा (यूए’ई) में सी’नियर से’फ्टी इं’जीनियर के प’द पर का’र्यरत थे। उन’के अ’धीनस्थ का’म क’रने वा’ले एक सूडा’नी और एक पा’किस्तानी के सा’थ ही दो भा’रतीय म’जदूरों ने उन पर ई’शनिंदा का आ’रोप ल’गाया औ’र पु’लिस में शि’कायत द’र्ज क’राई। इस मा’मले में उ’न्हें अ’क्टूबर 2019 में व’हां की पु’लिस ने गि’रफ्तार क’र लि’या था। पु’लिस की त’फ्तीश में वी’डियो, ऑ’डियो रि’कार्डिंग, क्लि’प स’हित को’ई भी सा’क्ष्य न’हीं मि’ला। पर यू’एई के का’नून के हि’साब से अ’गर ती’न या ती’न से अ’धिक लो’ग कु’रान की कस’म खा’कर गवा’ही दे’ते हैं तो आ’रोप सि’द्ध मा’ना जा स’कता है। इसी आ’धार पर अ’बूधाबी की को’र्ट ने अ’खिलेश को 22 फ’रवरी 2020 को स’जा सुना’ई है।

अ’खिलेश की प’त्नी अं’किता पा’ण्डेय ने अ’खिलेश को बेगु’नाह ब’ताते हुए यू’पी के मु’ख्यमंत्री, वि’देश मं’त्री और प्र’धानमंत्री को पत्र भे’जने के सा’थ ही गो’रखपुर सद’र सां’सद र’वि कि’शन, बां’सगांव सां’सद क’मलेश पा’सवान औ’र दे’वरिया सां’सद रमा’पति रा’म त्रि’पाठी तथा राज्यस’भा सां’सद शि’व प्रता’प शु’क्ल के ज’रिये भी विदे’श मं’त्रालय को प’त्र लिख’वाया था। अंकि’ता ने अ’खिलेश की स’जा मा’फी दि’लाने की अ’पील की थी। सां’सद स’हित अ’न्य प’त्रों के आ’धार पर कें’द्र स’रकार ने यू’एई स’रकार से द’या या’चिका भे’जकर अ’खिलेश को दे’श वा’पस भेज’ने की मां’ग की है। वि’देश मं’त्रालय में खा’ड़ी दे’शों के स’चिव डॉ. टी’वी ना’गेन्द्र प्रसा’द ने सां’सदों के सा’थ ही परि’वार को इ’सकी जान’कारी दी।

परि’वारीजनों को अखि’लेश का इं’तजार
अ’खिलेश पा’ण्डेय के पिता अ’रुण कु’मार पा’ण्डेय शि’क्षक हैं। वह गु’लरिहा इला’के में एक स्कू’ल में तैना’त हैं। अ’रुण के ती’न बे’टों में अ’खिलेश स’बसे ब’ड़े हैं। वह द’स सा’ल से यू’एई में नौक’री क’र र’हे थे। नौ’करी के कु’छ सा’ल बा’द प’त्नी अंकि’ता को भी सा’थ ले ग’ए थे। अ’खिलेश की ढा’ई सा’ल की एक बे’टी अ’विका है। अ’खिलेश की गि’रफ्तारी के समय प’त्नी और बे’टी यूए’ई में ही थीं। घर’वालों ने किसी त’रह से उ’न्हें भा’रत बु’लाया। प’रिवार के लो’गों ने द’या या’चिका के सा’थ ही यू’एई के सु’प्रीम को’र्ट में अ’पील भी की है।