Categories
Other

कमलनाथ सरकार के लिए बड़ी ‘मुसीबत’ बन सकते हैं दिसंबर के ये 4 दिन

कमलनाथ सरकार की एक साल की उपलब्धियों में खलल डालने के लिए बीजेपी ने पूरी प्लानिंग कर ली है. युवा मोर्चे से लेकर बीजेपी के तमाम संगठन कमलनाथ सरकार के खिलाफ एक के बाद एक विरोध प्रदर्शन की तैयारी में है. बीजेपी की मानें तो कांग्रेस सरकार के एक साल में आम जनता से लेकर बेरोजगार तक परेशान हैं और सरकार अपनी झूठी उपलब्धियां गिनाने में लगी है. यही वजह है कि बीजेपी को सड़कों पर उतरने को मजबूर होना पड़ रहा है. सरकार के खिलाफ बीजेपी ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है.

आपको बता दे कि 14 दिसंबर को बीजेपी ने यूरिया संकट और किसानों की परेशानी को लेकर सरकार के खिलाफ खेत धरना किया था. जिसके बाद 17 तारीख को मध्य प्रदेश में कैब लागू न करने पर बीजेपी कलेक्टर दफ्तर पर प्रदर्शन की तैयारी में है. अब बीजेपी 19 दिसंबर को युवा आक्रोश आंदोलन की तैयारी करेगी. इसके अलावा विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भी बीजेपी कमलनाथ सरकार को घेरगी.


सरकार को घेरने के लिए बीजेपी ने सदन से लेकर सड़क तक रणनीति तैयार कर ली है. 17 दिसंबर से शुरू हो रहे शीतकालीन सत्र से पहले आज बीजेपी विधायक दल की बैठक करेगी. विधायक दल की बैठक में सरकार को घेरने की रणनीति बनेगी. आपको बता दें कि किसान, यूरिया संकट, बिजली बिल, महिला अपराध और बेरोजगारों के मुद्दे पर बीजेपी सरकार को सदन में घेरेगी. विधानसभा का शीतकालीन सत्र 17 से 23 दिसंबर तक चलेगा. 18 दिसंबर से ही शुरूअत होगी. लिहाजा 18 को सदन में बीजेपी का हंगामा दिखने की मिल सकता है. वहीं 17 दिसंबर को ही पार्टी ने मध्य प्रदेश में नागरिकता संशोधन विधेयक लागू नहीं करने के मुद्दे पर सभी जिलों में कलेक्टर दफ्तर पर प्रदर्शन करने का फैसला किया है. इसके बहाने भी सरकार को घेरने की कोशिश होगी. युवा मोर्चा 19 दिसंबर को युवा आक्रोश आंदोलन के जरिए बेरोजगारों के मुद्दे पर सरकार को घेरेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.