Categories
News

अभी अभी किसान आंदोलन के बीच पीएम मोदी ने दी कपास किसानों को बड़ी खुशखबरी…

हिंदी वायरल खबर

नई दिल्ली। जहां एक त”रफ देश में किसान बिल को लेकर खासकर पंजाब और हरि’याणा मे किसानों का प्रद’र्शन चल रहा है तो वहीं हरियाणा की राज्य सरकार ने किसानों को बड़ी खुशखबरी दे दी है। किसा’नों को अच्छी खबर देते हुए केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी से मुलाकात के बाद हरि’याणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत सिंह चौटाला ने जानकारी दी है कि इस बार केंद्र सरकार 100 प्रतिशत कपास की खरीदारी करेगी। बता दें कि इसको लेकर केंद्रीय मंत्री के साथ जो बैठक हुई उसमें राज्य के मुख्य’मंत्री मनोहर लाल ख’ट्टर भी मौजूद थे। बता दें कि हरियाणा के किसानों से केंद्र सर’का’र 25 प्रतिशत कपास ही खरीदती थी। लेकिन केंद्रीय क’प’ड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने हरियाणा स’र’का’र के सीएम और डिप्टी सीएम के साथ मुलाकात के बाद आ’श्वस्त किया कि केंद्र इस बार किसानों से पूरा कपास खरी’देगी। इस खरीद’दारी से किसा’नों को काफी लाभ होगा।

गौरतलब है कि दुष्यंत ने बताया कि कपास की खरीददारी हरियाणा में इस बार 1 अक्टूबर से शुरू हो रही है। इसके लिए केंद्र स’रका’र भारतीय कपास निगम (सीसीआई) के नए केंद्र बनाने पर भी विचार कर रही है। हरियाणा में पिछले साल 20 कपा’स खरीद केंद्र थे, लेकिन इस बार इसकी संख्या को बढ़ा दिया गया है। इस बार इन केंद्रों की संख्या 40 होगी। उन्होंने कहा कि इस बार में किसानों की समस्या को देखते हुए आढ़’तियों से बात हो चुकी है। परिवहन एक बड़ी समस्या है। लेकिन इसे भी हल कर लिया जाएगा।

शनिवार को हरियाणा के मुख्य’मंत्री मनो’हर लाल खट्टर ने कहा कि राज्य सरकार भारतीय कपास निगम (सीसीआई) के माध्यम से एक अक्टूबर 2020 से न्यूनतम सम’र्थन मूल्य (एमएसपी) पर क’पा’स की खरीद शुरू करेंगी। उन्होंने कहा कि खरी’दारी के साथ ही राज्य सरकार कपास खरीद केंद्रों की संख्या भी बढ़ाएगी। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक इससे पहले खट्टर और उपमुख्’यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा में कपास की खरीद के बारे में केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृ’ति ईरा’नी के साथ बैठक की। यह बैठक नई दिल्ली में हुई। बयान के मुताबिक पिछले साल हरियाणा में 20 कपास खरीद केंद्र थे, जिसे इस साल बढ़ाकर 40 किया जा रहा है। ख’ट्ट’र ने स्पष्ट किया कि कपास की खरीद प्रक्रिया के दौरान 12 प्रतिशत तक नमी के पहले से ही निर्धा’रि’त मानक का पालन किया जाएगा और इसमें कोई बद’लाव नहीं किया जाएगा।