Categories
News

अभी अभी RJD और तेजस्वी पर टू’टा परेशा’नी का पहाड़, लालू प्रसाद का हुआ….

खबरें

बि’हार से राष्ट्री’य जन’ता दल के अ’ध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की मु’श्किलें अब का’फी ज्यादा बढ़ गई हैं। लालू प्रसाद यादव पर जे’ल से भाज’पा विधा’यक ल’लन पास’वान को फोन करने के मा’मले में पटना में ए’फआ’ई’आर द’र्ज कराई गई है। जिसके बाद से रा’ष्ट्रीय जनता दल पार्टी में अ’फरा-त’फरी सी मच गई है। बता दें, लालू प्रसाद यादव को इसी साल 1 केली बंगले में शि’फ्ट किया गया है।

लालू प्रसाद यादव पहले प्रा’इवे’ट वार्ड में रह रहे थे, लेकि’न उनके फ्लो’र के ठीक ऊपर और नीचे कोरो’ना मरी’जों का इ’लाज होने लगा। वार्ड के सा’मने कोवि’ड वा’र्ड भी था। ऐसे में रि’म्स के मे’डिकल बोर्ड ने उन्हें 1 के’ली बंग’ला, जो सबसे न’जदी’क था वहां शि’फ्ट करने का फैस’ला लिया।

इसके साथ ही झा’रखंड हा’ईकोर्ट में ला’लू प्रसाद के ख़ि’लाफ़ पी’आ’ई’ए’ल(PIL) दा’यर की गई है। भा’जपा नेता अ’नुरंजन अशो’क ने अधि’व’क्ता राजी’व कुमार के माध्य’म से हा’ईको’र्ट में जन’हित या’चिका दाय’र की है।

जे’ल मै’नुअल का खु’लेआ’म उ’ल्लंघ’न

आ’र’जे’डी अध्यक्ष लालू प्रसाद के खि’ला’फ दर्ज की गई पी’आ’ईए’ल में कहा गया है कि, लालू प्रसाद जे’ल मै’नुअ’ल का खु’लेआम उ’ल्लंघ’न कर रहे हैं। इस काम में प्र’शा’सन की भू’मिका सं’दिग्ध है। लि’हाज़ा, इस पूरे प्रक’रण की जां’च होनी चाहिए। इस बीच लालू प्रसा’द के वि’रूद्ध पुन’दाग टी’ओपी में प्राथ’मि’की भी द’र्ज क’राई जा रही है।

लालू प्रसाद पर आ’रोप.

इस पी’आ’ई’एल(PIL) में लालू प्रसाद पर आ’रोप लगाया गया है कि, रा’जद अध्यक्ष जेल मैनु’अल का उल्लंघ’न करते हुए मो’बाइल फोन का इ’स्तेमा’ल कर रहे हैं। साथ ही बिना इ’जाज’त लोगों से मिल रहे हैं। इतना ही नहीं लालू को प्रशा’सन का पूरा सह’योग भी मिल रहा है। चार घो’टाले में जब से उन्हे स’ज़ा मिली है उसके बाद से ही वे रि’म्स में आरा’म कर रहे हैं।

लालू जे’ल की स’ज़ा काट रहे

झा’रखंड हाई’कोर्ट के अ’धिव’क्ता राजीव कुमार ने बताया कि, को’र्ट का ही नि’र्णय है कि, न्या’यि’क हि’रा’सत में रहते हुए जिन्हे भी रि’म्स में इ’लाज के लिए लाया जाएगा उन्हे इ’लाज करने के बाद दो’बारा जे’ल भेजा जाएगा। लालू प्रसा’द ने जे’ल को ही रि’म्स में शि’फ्ट करा दिया है।

रि’म्स में ला’लू को त’माम सु’विधा’एं उपलब्ध हैं। ऐसे में ये कहना कि, लालू जे’ल की स’ज़ा का’ट रहे हैं मु’ना’सिब नहीं होगा। लि’हाज़ा, को’र्ट को भी इसपर सं’ज्ञा’न लेना चाहिए। PIL में जे’ल आई’जी, डी’जी’पी और संबं’धित अ’धिका’रियों को पार्टी बनाया गया है।