Categories
Other

एक बार फिर लॉकडाउ’न में जाने वाला है देश! इन राज्यों के लोग कर लें तैयारी…..

खबरें

कहां एक वक्त देश में कोरो’ना के 10-12 हजार के’स आने लग गए थे और कहां फिर से 80 हजार के पार आंकड़े मौत और बीमारी का आडंबर करने लग गए हैं. तो ऐसे में फिर ये सु’गबुगा’हट तेज हो गई कि क्या देश में फिर से लॉ’कडाउ’न लग सकता है? अगर देश में नहीं तो क्या कुछ राज्यों या फिर कुछ शहरों में लॉ’कडा’उन लग सकता है? क्या कुछ राज्य लॉ’कडा’उन पर विचार करने लगे हैं? यहां आप जानिए क्या है कोरो’ना से प्रभावित राज्यों का विचार…

कोरो’ना के बढ़ते मा’मलों पर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को एक आपा’त बैठक की. इस बैठक के बाद केजरीवाल ने साफ कर दिया कि दिल्ली सरकार का लॉ’कडाउ’न लगाने का कोई विचार नहीं है. अगर भविष्य में जरूरत पड़ी तो लोगों से बातचीत करके ही निर्णय लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि, “दिल्ली ने सबसे ज्यादा मु’श्कि’ल को’रो’ना की स्थिति में ए’नकाउं’टर किया है, देश के लिए को’रो’ना की ये दूसरी ल’हर हो सकती है लेकिन दिल्ली के लिए ये चौथी वेब (लहर) है.”

पुणे में आं’शि’क लॉ’कडाउ’न
वहीं महाराष्ट्र के पुणे में आंशिक लॉ’कडा’उन लगा दिया गया है. एक सप्ताह के लिए शाम छह बजे से सुबह छह बजे तक क’र्फ्यू लगाया गया है. हर तरह के मॉल और सिनेमा हॉल, रेस्टोरेंट, खाने की दुकानें आदि बंद रहेंगे. सिर्फ होम डिलीवरी की सेवा प्रदान की जाएगी. स्कूल कॉलेज को 30 अप्रैल के लिए बंद कर दिया गया है. प्र’शा’सन, पु’लिस, स्वास्थ्य और अन्य विभागों के शीर्ष अधिकारियों के साथ शुक्रवार सुबह उपमुख्यमंत्री अजीत पवार की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया.

मतलब बढ़ते को’रो’ना का पहला रुझान उसी पुणे से मिल गया जहां सबसे ज्यादा वै’क्सी’न बन रही है, लेकिन लापरवाही से को’रो’ना कै’स भी खूब आ रहे हैं. और सच तो ये है कि जितने केस हिंदुस्तान में आ रहे हैं उसका आधा हिस्सा तो महाराष्ट्र से ही पूरा हो रहा है, ऐसे में सरकार लॉ’कडाउ’न के बारे सोच तो सकती है, मगर सहयोगी पार्टी साथ नहीं दे रही. यानि साफ है कि NCP नहीं चाहती कि फिर से लॉ’कडाउ’न लगे. वो दूसरे विकल्पों की बात कर रही है और बीजेपी भी महाराष्ट्र में लॉ’कडाउ’न के खिला’फ है.

यूपी में प्र’शा’स’न स’ख्त
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कक्षा आठ तक के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को 11 अप्रैल तक बंद रखने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को अपने सरकारी आवास पर टीम (टीम-11) के साथ को’रो’ना वा’यर’स सं’क्रमण को लेकर उच्च स्तरीय बैठक की.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया कि इस दौरान शिक्षकों का स्कूलों में आना अनिवार्य होगा. उन्होंने कहा कि, “सभी जिलों में अधिकारी तय करें कि कक्षा 9 से 12 तक की शिक्षा ग्रहण कर रहे बच्चों के स्कूल में आगमन के दौरान स्कूलों में को’वि’ड प्रो’टोक’ल का स’ख्ती से पालन हो. अगर ऐसा नहीं होता है तो फिर स्कूल के खि’ला’फ का’र्रवाई करने में जरा भी संको’च न करें.”

को’रो’ना पर कैबिनेट सचिव की बैठक
कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने को’रो’ना की स्थिति पर शुक्रवार को सभी राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ महत्वपूर्ण बैठक की. इस दौरान विशेष रूप से उन 11 राज्यों के हालात पर चर्चा की गई, जहां स्थिति चिं’ताजन’क बताई गई है. इन राज्यों में महाराष्ट्र, पंजाब, दिल्ली, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, केरल, गुजरात, मध्य प्रदेश, हरियाणा, तमिलनाडु और चंडीगढ़ शामिल हैं. महाराष्ट्र की हालत पर विशेष रूप से चिं’ता जताई गई. 31 मार्च तक के आं’क’ड़ों के मुताबिक पिछले 14 दिनों में इन्हीं 11 राज्यों में को’रो’ना के 90 फीसदी मा’मले आए हैं. वहीं, कुल 90.5 फीसदी मौ’तें भी इन्हीं राज्यों में हुई हैं.