Categories
News

अभी अभी भा’रती’य राज’नीति को लगा बड़ा झट’का, नही रहें लोक’सभा अध्य’क्ष ओम बिर’ला के….😭

हिंदी खबर

नई दिल्ली। मंगल’वार को लोक’सभा अध्‍यक्ष ओम बिरला के पिता श्रीकृष्‍ण बिरला का नि’धन हो गया। श्री’कृष्‍ण बिर’ला 91 सा’ल के थे और वो का’फी लंबे सम’य से बी’मार चल रहे थे। बता दें कि ओम बिर’ला के पिता ने राज’स्‍थान के को”टा में अंति’म सां’स ली। इससे पहले जब उनकी तबी’यत ज्यादा ख’राब हुई थी तो ओम बिर’ला अपने सारे कार्य’क्रम स्थ”गित कर उन्हें दे’खने पहुंचे थे। श्रीकृ’ष्ण बिरला की पह’चान एक समा’जसेवी के रू’प रही। कोटा के दिग्‍ग”ज समाज’सेवी कर्म’चारि’यों की सभी 108 में भी कई महत्‍व’पूर्ण पदों पर रहे। वह अलग ही व्‍य’क्ति’त्‍व के स्‍वामी थे, हर किसी की म”दद के लिए हमे’शा तै’यार रहते। इसलिए श्रीकृ’ष्‍ण बिर’ला को सहका’रिता क्षेत्र में पितामह कहा जाता था। उनके नि”ध’न पर देश तमाम दिग्”गज राज’नी’तिक हस्ति’यों ने अपनी संवे”दनाएं व्यक्त की हैं। श्री’कृ’ष्‍ण बिर”ला का अंतिम संस्का’र बुध’वार सुबह 8 बजे कि’शो”रपुरा मुक्ति,धाम पर किया गया।

प्रधा”नमंत्री नरे”न्द्र मो’दी और केन्”द्रीय गृह”मंत्री अमि:त शाह, राज्य’पाल कल::राज मिश्र ने शो”क संवेदना जताई है। लोकसभा अ”ध्यक्ष बिर”ला को पिता के अस्व”स्थ होने की सू”चना मिलते ही सारे कार्य”क्रम निर”स्त कर पि:ता के पास पहुंच गए। श्री’कृष्ण बिर”ला का भरा”’पूरा परि:वार है। जिस”में 6 पुत्र तथा ती:न पुत्रि:यां हैं।

श्री’कृष्ण बिर”ला का जन्म 12 जून 1929 को को’टा जिले के कन”वास में हुआ था। 1950 में मे”ट्रिक करने के बाद उन्होंने कुछ स’मय तक कन’वास तहसील में अंग्रेजी क्ल”र्क के रूप में कार्य किया। इसके बाद वह कस्’टम एक्’सा’इज विभाग, कार्या’लय अधी’क्षक, ओए’स फर्स्ट ग्रे’ड जैसे पदों पर का’म किया। साल 1986 में श्री’कृष्‍ण बिर’ला को’टा के वा”णिज्यि’क कर विभाग में आए, जहां उन्’होंने 1988 तक का’र्य किया।