Categories
Other

प्रशासन के समझाने के बाद परिवार ने किया महिला का अंति’म सं’स्कार

उन्नाव में आग के हवाले की गई महिला के परिवार ने लखनऊ मंडलायुक्त और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से आश्वासन मिलने के बाद पीड़िता का रविवार को अंतिम संस्कार किया इससे पहले पीड़िता के परिजन ने कहा था कि वे पीड़िता का तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे, जब तक उत्तर प्रदेश को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनसे मिलने नहीं आते.

शनिवार शाम पीड़िता की बॉडी गांव पहुंची. यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मामले की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई का फैसला किया है. कानून व्यवस्था के मद्देनजर सीतापुर, हरदोई और लखनऊ से पुलिस फोर्स को उन्नाव बुलाया गया है. इसके अलावा दो प्लाटून पीएसी को भी मौके पर तैनात किया गया है.

पीड़िता की बहन ने इससे पहले मीडिया से कहा, ‘जब तक योगीजी यहां नहीं आते हैं मैं अपनी बहन का दाह संस्कार नहीं करूंगी. मैं योगीजी से व्यक्तिगत रूप से बात करना चाहती हूं। मैं चाहती हूं कि अभियुक्तों को फांसी के फंदे पर लटकाएं जाएं।’ योगी सरकार ने पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये के मुआवजे का चेक सौंपा था. इस बीच विक्टिम की बहन ने सरकारी नौकरी की मांग की है. पीड़िता की बहन ने कहा, ‘मैं मांग करती हूं कि मुझे सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए।’

आपको बता दें कि दोषियों को सजा दिलाने के लिए संघर्ष कर रही उन्नाव की बेटी को गुरुवार सुबह जिंदा जलाने की कोशिश की गई थी. बाद में इलाज के दौरान उसकी जान चली गई. पुलिस चाहती थी कि रात में ही अंतिम संस्कार हो जाए लेकिन परिवार के लोग नहीं माने. उन्नाव के जिला प्रशासन ने परिवार से बातचीत के बाद आज पीड़िता के अंतिम संस्कार का फैसला किया था.

90 replies on “प्रशासन के समझाने के बाद परिवार ने किया महिला का अंति’म सं’स्कार”

Leave a Reply

Your email address will not be published.