Categories
Other

दो’षी पवन का दांव हुआ फेल फां’सी से बचने के लिए अब चलेगा नई चाल

नि’र्भ’या के’स के दो’षि’यों को अभी तक फां’सी नहीं हो पाई है. आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से दो बार तारीख आने के बाद भी फां’सी टल गई जिसका कारण था दो’षि’यों का राष्ट्रपति को ऐन वक्त पर दया याचिका भेंजना. आपको बता दें कि इस बात दो’षी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दलील दी थी कि वो इस घटना के वक्त नाबालिग था इसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. वहीं दो’षी पवन फां’सी से बचने के लिए हर दांव फेल ही हुए है, पर अभी भी उसके पास दो विकल्प और मौजूद हैं. जानिए क्या है वो विकल्प..

आपको तो पता ही होगा जब तक सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति सभी दो’षि’यों की दया याचिका खारिज नहीं कर देंगे तब तक दो’षी को फां’सी नहीं हो सकती यानि कि सभी दो’षि’यों के पास फां’सी से बचने का कानूनी विकल्प रहेगा. पवन गुप्ता के परिवार की तरफ से उसे बचाने की बहुत कोशिश की जा रही है. पवन के पिता हीरा लाल गुप्ता ने ये आरोप लगाया था कि नि’र्भ’या के मित्र ने पैसे लेकर समाचार चैनलों को साक्षात्कार दिया जिससे इस मामले की सुनवाई प्रभावित हुई. सत्र न्यायालय ने उस अपील को खारिज कर दिया जिसमें नि’र्भ’या के मित्र व केस के एकमात्र गवाह पर एफआईआर दर्ज करने मांग की गई थी।

आइए बताते हैं कि दो’षि’यों के पास और कितने विकल्प बचे हैं? सुप्रीम कोर्ट निर्भया के चारों दो’षि’यों की पुनर्विचार पहले ही याचिका खारिज कर चुका है. दोषी विनय, मुकेश और अक्षय की क्यूरेटिव पिटीशन भी सुप्रीम कोर्ट से खारिज हो गई है, अब सिर्फ पवन की ही क्यूरेटिव पिटीशन फाइल करना बाकी रह गया है।

अगर सुप्रीम कोर्ट से क्यूरेटिव पिटीशन खारिज हो जाती है तो अक्षय और पवन के पास सिर्फ दया याचिका का ही मौका. यानि की दोनों दोषी राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेंज सकते हैं. आपको बता दें कि दो’षी मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति ने खारिज कर दी थी वहीं विनय की दया याचिका अभी भी लं’बित है।