Categories
Other

सि-स्टम से ना-राज था सन-की, बच्चों को बना लि-या बं-धक


उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद के करथिया गांव में बं-धक बनाए गए 21 मा-सूमों को शुक्रवार आधी रात पुलि-स कार्रवाई के बाद सकुशल छु-ड़ा लिया गया है. करीब 11 घंटे तक चले इस बंध-क संकट के सूत्रधार सुभाष बाथम को पुलि-स ने रात करीब 1 बजे मा-र गिरा-या, जबकि उसकी पत्नी को आक्रो-शित ग्रामीणों ने पीट-कर मा-र डा-ला. आपको बता दें कि सुभाष ने जन्मदिन मनाने के बहाने 21 बच्चों को दोपहर के वक्त बं-धक बना लिया था. जिसके बाद समझाने आए एक ग्रामीण के पैर पर उसने गो-ली मा-र दी थी. पुलि-स कार्र-वाई के दौरान सुभाष ने देसी बमों से पुलि-स पर भी हम-ला किए.

वहीं फर्रुखाबाद एसपी डॉ. अनिल मिश्रा ने बताया, ‘सुभाष बाथम अपने घर के मुख्य दरवाजे के छेद से फाय-रिंग कर रहा था. उसने एक तार से ब-म को कनेक्ट कर रखा था. जब ये धमा-का हुआ तो नजदीक की एक दीवार भी ढह गई थी. पुलि-स टीम मकान के पिछले दरवाजे से घर के अंदर दाखिल हुई थी. फिर सुभाष फाय-रिंग करते हुए बाहर की तरफ भागने लगा. आपको बता दें कि उसके साथ पत्नी रूबी भी थी. बाहर भीड़ ने उनकी पि-टाई की. वहीं क्रॉस फाय-रिंग में सुभाष और भीड़ की पिटा-ई वजह से रूबी की मौ-त हो गई.’


आपको बता दें कि सुभाष बाथम नाम के शख्स ने अपनी बिटिया के जन्मदिन की बात कहकर गांव के बच्चों को घर बुलाया. उसने अपने घर में बने बेसमेंट में सभी बच्चों को बं-द कर दिया था। वहां पर उसने हथि-यार रखे थे. उसने बच्चों को धम-की दी थी कि यदि वे चुप नहीं रहे तो वो उन्हें ब-म से उ-ड़ा देगा.

उसके बाद जब बच्चे वापस नहीं लौटे तो परिवारवालों ने सुभाष बाथम के घर गए तो सुभाष ने उन पर फाय-रिं’ग कर दी जिसके बाद फिर ग्रामीणों ने आनन-फानन डायल 112 को फोन कर पुलि-स को बुलाया जिसके बाद उन्होंने सुभाष बाथम से बात करने की कोशिश की लेकिन पुलि-सकर्मी पर भी श’ख्स ने ह-मला कर दिया. सुभाष ने वि-स्फोट किया. इस धमा-के में इन्स्पेक्टर और दीवान घा-यल हो गया।

‘रात में लगभग 1 बजे तेज आवाजें आई. पुलि-स टीम घर के अंदर दाखिल हुई. आक्रो-शित ग्रामीणों ने सुभाष बाथम के घर पर पथ-राव शुरू कर दिया. पुलि-स टीम ने कमरे में पहुंचकर सुभाष बाथम को ढे-र कर दिया. इस दौरान सुभाष की पत्नी, जो कि उस पूर्व नियोजित योजना का हि-स्सा थी. वो घर से बाहर निकली तो ग्रामीणों ने उसकी पिटा-ई कर दी जिसने बाद अस्प-ताल में उसने भी द-म तो-ड़ दिया।’