Categories
Other

इस राज्य में शराब ठेकेदारों ने दुकान खोलने से किया इनकार, बड़ी वजह आई सामने

देशभर में कोरोना का खतरा बढ़ता ही जा रहा है. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने तीसरी बार लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है. अब इसी फैसले के मद्देनजर दो हफ्तों और ये लॉकडाउन लागू रहेगा. जानकारी के लिए बता दें कि इस बार लॉकडाउन में कई तरह की छूट दी जा रही है. ऐसी ही एक छूट शराब की बिक्री को लेकर दी गई है.

बताते चलें कि आज से देशभर में शराब की दुकानें खुल गई है. इस दौरान शराब की दुकानों के बाहर भारी भीड़ देखने को मिली. सुबह से ही लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में ठेके के बाहर लाइन लगाकर शराब खरीदने पहुंचे हैं. केंद्र सरकार के आदेश के बाद आज से देशभर में शराब की बिक्री तीनों जोन में शुरू हो गई है. हालांकि हरियाणा में शऱाब कारोबारियों ने शराब की दुकानें खोलने से इनकार कर दिया है.

आपको बता दें कि हरियाणा में राज्य सरकार और शराब कारोबारियों में विवाद हो गया है. दरअसल शराब ठेकेदारों ने लाइसेंस फीस देने से मना कर दिया है. शराब कारोबारियों ने कहा था कि कोरोना क्राइसेस के दौर में सरकार हमसे उतनी ही लाइसेंस फीस ले जितना शराब बिके क्योंकि इस वक्त ज्यादा बिक्री नहीं होगी. अब इस बात को लेकर हरिय़ाणा सरकार और ठेकेदारों में ठन गई. सरकार ने ठेकेदारों के बात नहीं मानी जिसके बाद उन्होंने आज शराब की दुकाने नहीं खोलने का फैसला किया है.

ठेकेदारों की एक और चिंता है कि कोविड सेस लगाया जा रहा है जो कि 2 रुपये से 20 रुपये तक प्रति बोतल हो सकता है. हालांकि आज मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई में बैठक चल रही है और इसमें अंतिम फैसला लिया जाएगा कि कोई छूट देनी है कि नहीं देनी है.