Categories
Other

गेस्ट हाउस कांड को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा फैसला

उत्तरप्रदेश में लगभग तीन दशक पहले हुई एक घटना ने सबको विचलित कर दिया था. वो यूपी का सबसे चर्चित काण्ड गेस्ट हाउस काण्ड था जिसमें बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती के साथ समाजवादी पार्टी के नेताओं ने बदसलूकी की थी. बात 2 जून 1995 की है जब तत्कालीन मुख्यमंत्री समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने गेस्ट हाउस में घुसकर इस घटना को अंजाम दिया था.

जानकारी के बता दें बसपा सुप्रीमो के साथ हुई इस बदसलूकी के बाद मायावती ने इस मामले में मुलायम सिंह यादव उनके भाई शिवपाल यादव, आजम खान और बेनी प्रसाद वर्मा के खिलाफ हजरतगंज थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था. उत्तरप्रदेश की राजनीति में हुए इस काण्ड के बाद सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गयी थी और मायावती ने किनारा कर लिया लेकिन अभी हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में एक लम्बे समय बाद मायावती ने समाजवादी पार्टी से गठबंधन करके चुनाव लड़ा था.

लोकसभा में इस दोनों पार्टी के हुए गठबंधन के बाद मायावती पर जमकर सवाल उठे थे लेकिन अब इस मामले को लेकर एक बड़ी खबर आ रही है. जी हाँ मायावती ने तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह के खिलाफ कोर्ट में अपना केस वापस लेने की अर्जी दी है. बीएसपी के एक वरिष्ठ नेता द्वारा भी इस बात की पुष्टि कर दी गयी है.

सूत्रों के अनुसार ये भी बताया जा रहा है कि ये अर्जी केवल मुलायम सिंह के खिलाफ ही वापस लेने को दी गयी है बाकी नामों पर पहले जैसा रुख कायम रहेगा. बसपा नेता ने बताया है कि लोकसभा चुनाव के दौरान सपा के शीर्ष नेतृत्व ने मायावती से मुलायम सिंह के खिलाफ मुकदमा वापस लेने का अनुरोध किया था. जिसके बाद कोर्ट में केस वापस लेने की अर्जी देने की खबर आई है.

One reply on “गेस्ट हाउस कांड को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा फैसला”

Leave a Reply

Your email address will not be published.