Categories
Other

ट्रम्प के बड़बोलेपन के कारण सरकार ने दिया ये जवाब

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के ऑर्डर की आपूर्ति करने का आग्रह किया है। भारत ने पिछले महीने इस दवा के निर्यात पर रोक लगा दी थी। ट्रंप ने कहा कि उन्होंने शनिवार सुबह प्रधानमंत्री मोदी से बात कर अमेरिका के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के ऑर्डर की आपूर्ति करने का आग्रह किया. जिसके बाद भारत के बात ना मानने पर ट्रम्प ने भारत को दावा मिलने से पहले गिडगिडाने वाले ट्रम्प के सुर दवा मिलते ही बदल गए और लगे शेखी बघारने. उन्होंने धम-की वाले अंदाज में कहा, ‘अगर भारत हमें दवाई नहीं देता तो हम उसे देख लेते…’

ट्रम्प की धम-की पर अब भारत सरकार ने मुं-ह-तो-ड़ जवाब दिया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा है भारत पहले अपने नागरिकों का हित देखेगा उसके बाद ही किसी की मदद करेगा. हमारे लिए पहले अपना देश है. विदेश मंत्रालय ने कहा है, ‘हमारी प्राथमिकता ये है कि जरूरत की दवाइयों का देश में भरपूर स्टॉक हो, ताकि अपने लोगों की जरूरतों को पूरा किया जा सके. हमारे कुछ पड़ोसी देश दवाओं के लिए पूरी तरह से हम पर निर्भर हैं. हम उन्हें दवाई दे रहे हैं.

इसी के चलते कई दवाइयों पर कुछ समय के लिए निर्यात पर रोक लगाई थी. इसे राजनितिक रंग न दिया जाए तो ही अच्छा है.’ अमेरिका में को-रो-ना के वजह से हा-लात बेहद खरा-ब हैं, लेकिन बड़बोले ट्रम्प से अपना देश तो संभल नहीं रहा और वो दूसरों को धम-की दे रहे हैं. दुनिया का सबसे ता-कत-वर देश किस तारह से घुटनों पर आ गया है ये पूरी दुनिया देख रही है. अपनी इसी साख को बचाने के लिए ट्रम्प अनर्गल वर्ताव कर रहे हैं.