Categories
Other

मच्‍छरों के थूक से बनेगी सुपर वैक्‍सीन, इन घातक बीमारियों का होगा खात्‍मा

पूरी दुनिया में कुल कोरोना मरीजों का आंकड़ा 75 लाख को पार कर गया है. इसमें 4 लाख 20 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना से अभी दुनिया के 188 देश प्रभावित हैं. वोहीं पांचवे नंबर पर भारत है, जहां कुल मरीजों का आंकड़ा 2 लाख 86 हजार से अधिक है और 8 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना की महामारी के कारण पूरे देश में लॉकडाउन चल रहा था. इनसब बातों के बीच शोधकर्ताओं को एक नयी खोज हासिल हुई हैं. आइये आपको बताते हैं.

करीब 5 साल पहले मच्‍छरों से भरे कंबोडिया के एक ऑफिस में बैठी जेसिका मैनिंग के दिमाग में एक बड़ा आ‍इडिया आया। जेसिका मैनिंग ने सोचा कि क्‍यों न मलेरिया की वैक्‍सीन तलाशने की बजाय मच्‍छरों से पैदा होने वाले सभी विषाणुओं के खात्‍मे के लिए एक साथ प्रयास किया जाए। अमेरिका के संक्रामक रोग संस्‍थान में काम करने वाली शोधकर्ता जेसिका का मानना है कि मच्‍छरों के लार में पाए जाने वाले प्रोटीन से एक वैश्विक वैक्‍सीन का निर्माण किया जा सकता है. अगर यह वैक्‍सीन बनाने में सफलता मिल जाती है तो इंसान के शरीर में प्रवेश करने वाले सभी रोगाणुओं से होने वाली बीमारियों से रक्षा हो सकेगी। इसमें डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया, जीका, यलो फीवर, मायरो आदि अन्‍य बीमारियों से इंसान का बचाव हो जाएगा। मैनिंग ने कहा, ‘हमें और ज्‍यादा रचनात्‍मक तरीके अपनाने होंगे।’ यह वैक्‍सीन पवित्र प्‍याले की तरह से होगी जिससे कई बीमारियों से बचाव होगा.

गुरुवार को मशहूर पत्रिका लांसेट में जेसिका और उनके सहयोगी का शोध छपा है। इसमें मच्‍छर के थूक से बनी वैक्‍सीन के पहले क्लिनिकल ट्रायल के परिणाम के बारे में बताया गया है। इस ट्रायल में पता चलता है कि मच्‍छर के लार से बनी वैक्‍सीन Anopheles सुरक्षित है और इससे एंटीबॉडी बनता है और कोशिकाओं का रेस्‍पांस बढ़ता है। एक शोधकर्ता माइकल मैकक्रैकन का कहना है कि प्रारंभिक परिणाम ‘बुनियादी’ हैं।मैकक्रैकन ने कहा, ‘यह बड़ी उपलब्धि है। महत्‍वपूर्ण सफलता है। मच्‍छर धरती पर सबसे खतरनाक जीव हैं।’ केवल मलेरिया से हर साल 4 लाख लोगों की मौत हो जाती है। इनमें ज्‍यादातर मौतें गरीब मुल्‍कों में होती है जहां वैक्‍सीन के शोध के लिए काम नहीं होता है और पैसा भी नहीं दिया जाता है। ग्‍लोबल वार्मिंग की वजह से ये मच्‍छर अब और ज्‍यादा देशों में अपनी पहुंच बना रहे हैं।