Categories
Other

मध्य प्रदेश में सरकार बचाने के लिए बीजेपी और कांग्रेस ने बनाई नई रणनीति

मध्य प्रदेश में सियासी घमासान अभी भी जारी है. विधायकों को बचाए रखने के लिए पार्टियों की ओर से कई कोशिशें की जा रही हैं. आज कांग्रेस अपने विधायकों को मध्य प्रदेश से बाहर ले जाएंगे. वहीं बीजेपी की बात करें तो उन्होंने पहले ही अपने विधायकों को दिल्ली भेजने की तैयारी कर ली है.

आपको बता दें कि भोपाल में हुई कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद खबर आ रही है कि सभी विधायकों को मध्य प्रदेश से बाहर ले जाया जाएगा. कांग्रेस विधायकों ने एकजुटता दिखाने के लिए राज्य से बाहर जाने की मांग की थी.बताते चलें कि विधायकों का मानना है कि हमारी एकजुटता से दूसरे विधायक भी हमारे साथ आएंगे.

खबरों के अनुसार सभी विधायकों को राजस्थान या फिर छत्तीसगढ़ जा सकते है. बताते चलें कि चारों निर्दलीय विधायक भी इस दौरान उनके साथ रहेंगे. वहीं बात करें भारतीय जनता पार्टी की तो उन्होंने सभी विधायकों को दिल्ली भेजने की तैयारी कर दी है. सभी को इंडिगो की फ्लाइट से दिल्ली भेजा जा रहा है. ये भी खबरें आ रही है कि दिल्ली के बाद सभी विधायक हरियाणा के लिए रवाना होंगे.

आपको बता दें कि कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद से सरकार संकट में है. बताते चलें कि इन 22 विधायकों में 6 कामलनाथ सरकार में मंत्री रह चुके हैं. इस्तीफा देने वाले विधायकों में रघुराज कंसाना, कमलेश जाटव, भांडेर से रक्षा संत्राव, अशोक नगर से जजपाल सिंह जज्जी, शिवपुरी से सुरेश धाकड़, ओपी एस भदौरिया, रणवीर जाटव, गिरराज दंडोतिया, जसवंत जाटव, हरदीप डंग, मुन्ना लाल गोयल, ब्रिजेंद्र यादव, दत्तिगांव से राजवर्धन सिंह, एंदल सिंह कंसाना, मनोज चौधरी शामिल है. जानकारी के मुताबिक कुछ दिन पहले ही बेंगलुरु से लौटे बिसाहूलाल साहू ने भी कांग्रेस का हाथ छोड़ दिया है और बीजेपी में शामिल हो गए हैं।