Categories
Other

अब फां’सी पक्की? गुन’ह’गार मुकेश की याचिका सु’प्रीम कोर्ट से हुई खारिज

नि’र्भ’या गैं’ग’रे’प केस के दो’षी मुकेश सिंह की याचिका को सु’प्रीम को’र्ट ने खारिज कर दिया है. बुधवार को सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि कोई सबूत नहीं है कि प्रासंगिक दस्तावेज राष्ट्रपति के सामने नहीं रखे गए थे. मुकेश ने अपनी दया याचिका खारिज करने के लिए खि’लाफ अ’र्जी दाखिल की थी.

मंगलवार को मुकेश की वकील अंजना प्रकाश ने कहा था कि राष्ट्र’पति के सामने कई दस्तावेज नहीं रखे गए थे, इसलिए दया याचिका खारिज होने के खिलाफ सु’प्रीम कोर्ट को विचार करना चाहिए. अपनी वकील के जरिए मुकेश ने कहा था कि उसका जेल में यौ’न उ’त्पी’ड़’न हुआ था और उसके भाई रा’म सिंह की ह’त्या की गई थी.

इस मा’मले में बुधवार को फैसला सुनाते हुए सु’प्रीम को’र्ट ने कहा कि हमने खुद को संतुष्ट करने के लिए राष्ट्र’पति के पास भेजे गए सारे दस्ता’वेजों को देखा. गृह मंत्रालय ने सारे दस्तावेज भेजे थे. मुकेश की याचिका में कोई मेरिट नहीं है. जेल में प्रताड़ना दया के लिए कोई आधार नहीं है. इसके बाद मु’के’श की याचिका को खारिज कर दिया गया. फैसला आने के बाद नि’र्भ’या की मां ने कहा कि अब मुझे उम्मीद है कि पूरा इंसाफ मिलेगा. मुजरिम कानून का दु’रु’प’योग कर रहे हैं. मुकेश की याचिका खारिज होने से अब मुझे एक फरवरी को दो’षि’यों की फां’सी की उम्मीद है.

पटियाला हाउस कोर्ट ने पिछले दिनों चारों दो’षि’यों को पहले 22 जनवरी सुबह 7 बजे फां’सी पर लटकाने की तारीख तय की थी, लेकिन इसके बाद दो’षी मुकेश सिंह ने राष्ट्रपति के सक्षम दया याचिका लगा दी थी. रा’ष्ट्रप’ति रामनाथ कोविंद द्वारा नि’र्भ’या के दो’षी मुकेश सिंह की दया या’चिका खारिज होने के बाद कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया.  चा’रों दो’षि’यों को अब 1 फरवरी सुबह 6 बजे फां’सी पर ल’ट’का’या जाएगा.