Categories
News

लगेगा लॉकडाउन, सरकार ने नई गाइडलाइन जारी कर दिये नये निर्देश…

खबरें

को’रो’ना को लेकर केंद्र सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है। यह गा’इडला’इन 1 अप्रैल से लेकर 30 अप्रैल तक लागू रहेगी। केंद्र ने कोविड-19 के मा’म’लों में वृद्धि के मद्देनजर दिशा-निर्देश जारी कर राज्यों को जांच, संपर्कों का पता लगाने, उपचार प्रो’टोकॉल का कड़ाई से पालन करने को कहा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि जिन राज्यों में आरटी-पीसीआर जांच का अनुपात कम है, उन्हें इसे तेजी से बढ़ाना चाहिए, साथ हीं को’विड-19 के प्रसार को रोकने के उद्देश्य से राज्यों को स्थिति के आकलन के आधार पर स्थानीय स्तर पर पा’बं’दियां लगाने की अनुमति दी गई है।

बता दें कि भारत में एक दिन में को’वि’ड-19 के 40,715 नए मा’मले सामने आने के बाद देश में सं’क्र’मि’तों की संख्या बढ़कर 1,16,86,796 हो गई है। उपचाराधीन म’रीजों की संख्या में भी लगातार 13वें दिन बढ़ोतरी दर्ज की गई और वह 3,45,377 हो गई है, जो कुल मा’मलों का 2.96 प्रतिशत है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से मंगलवार की सुबह जारी किए गए आं’कड़ों के अनुसार, देश में 199 और मरीजों की मौ’त के बाद मृ’तक संख्या बढ़कर 1,60,166 हो गई। 

आं’कड़ों के अनुसार को’विड-19 से मृ’त्यु दर देश में 1.37 प्रतिशत है। देश में कुल 1,11,81,253 लोग सं’क्रम’ण मुक्त हो चुके हैं। हालांकि मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर और अधिक गिरा’वट के साथ 95.67 प्रतिशत हो गई है। देश में पिछले साल सात अगस्त को सं’क्र’मितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। 

वहीं, सं’क्र’मण के कुल मा’म’ले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवम्बर को 90 लाख रहे और 19 दिसम्बर को ये मा’मले एक करोड़ के पार चले गए थे। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, देश में 22 मार्च तक 23,54,13,233 नमूनों की को’विड-19 संबंधी जांच की गई है। इनमें से 9,67,459 नमूनों की जांच सोमवार को की गई थी। 

आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में जिन 199 लोगों की वा’यर’स से मौ’त हुई, उनमें से महाराष्ट्र तथा पंजाब के 58-58, केरल तथा छत्तीसगढ़ के 12-12 और कर्नाटक तथा तमिलनाडु के 10-10 लोग थे। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में वा’यरस से अभी तक कुल 1,60,166 लोगों की मौ’त हुई है, जिनमें से महाराष्ट्र के 53,457, तमिलनाडु के 12,609, कर्नाटक के 12,444, दिल्ली के 10,963, पश्चिम बंगाल के 10,308, उत्तर प्रदेश के 8,759 और आंध्र प्रदेश के 7,191 लोग थे।