Categories
Other

परंपरा से हटकर पहली बार शपथ ग्रहण में ‘मैं ईश्वर की…’ जगह ये बोलते दिखाई दिए मंत्री

आज आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली. शपथ ग्रहण के बाद रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल ने जनसभा को संबोधित करते हुए मुफ्त योजनाओं पर विपक्ष की टिप्पणियों पर भी जवाब दिया है.

दिल्ली में आज आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की कमान संभाल ली है. आपको बता दें कि आज रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल ने अपने मंत्रिमंडल के छह सहयोगियों के साथ मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. इसी दौरान कुछ मंत्रियों के तरफ से ली गई शपथ चर्चा में है क्योंकि तीन मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ लेते वक्त परंपरा से हटकर शपथ ली. 

केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के बाद तीसरे स्थान पर शपथ लेने आए गोपाल राय ने आजादी के शहीदों की शपथ ली, जबकि आमतौर पर ईश्वर या सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञान के नाम पर शपथ ली जाती है. आपको बता दें कि गोपाल राय दिल्ली के बाबरपुर से विधायक हैं और पिछली सरकार में श्रम, रोजगार, विकास और सामान्य प्रशासन विभागों की कमान संभाल चुके है. बता दें कि गोपाल राय ने अन्ना आंदोलन के वक्त से ही केजरीवाल के साथ हैं. उन्होंने अन्ना आंदोलन में भी सक्रिय भूमिका निभाई थी.

वहीं, बल्लीमारान से विधायक चुने गए और पिछली सरकार में खाद्य आपूर्ति मंत्री रहे इमरान हुसैन ने मंत्री पद की शपथ अल्लाह के नाम पर ली तो गोपनीयता की शपथ ईश्वर के नाम पर. आपको बता दें कि इमरान हुसैन पांचवें नंबर पर शपथ लेने आए. उन्होंने शपथ लेते वक्त कहा, ‘मैं, इमरान हुसैन, अल्लाह की शपथ लेता हूं कि मैं विधि द्वारा स्थापित भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा. मैं भारत की प्रभुता और अखंडता अक्षुण्ण रखूंगा. मैं मंत्री के रूप में कर्तव्यों का श्रद्धापूर्वक और शुद्ध अंतःकरण से निर्वहन करूंगा तथा मैं भय या पक्षपात, अनुराग या द्वेष के बिना सभी प्रकार के लोगों के प्रति संविधान और विधि के अनुसार न्याय करूंगा।’

जिसके बाद बारी आई राजेंद्र पाल गौतम की आई तो उन्होंने भी ईश्वर या सत्यनिष्ठा से प्रतिज्ञान के नाम पर शपथ लेने की बजाय उन्होंने बुद्ध के नाम पर शपथ ली