Categories
Other

द’रिं’दों को फां’सी पर ल’टका’ने वाले ज’ल्ला’द को मिले इतने लाख रुपये

आज ति’हा’ड़ जे’ल में नि’र्भ’या के’स के चारों दो’षि’यों को सुबह 5.30 बजे फां’सी दे दी गई. आपको बता दें कि दो’षि’यों को फां’सी पर झुलाने वाले ज’ल्ला’द का नाम पवन है और वो उत्तर प्रदेश के मेरठ का रहने वाले हैं. बताते चलें कि पवन ज’ल्ला’द का परिवार कई पीढ़ियों से ज’ल्ला’द का काम ही कर रहा है. जानिए पवन ज’ल्ला’द के बारे में विस्तार से.


कुछ दिन से चर्चा का विषय रहे पवन ने चारों दो’षि’यों को एक साथ फां’सी पर ल’टका’कर अपना नाम इतिहास में दर्ज करा लिया है. यहां एक ही अ’परा’ध के लिए चार दो’षि’यों को एक साथ फां’सी देने का ये रिकॉर्ड अब पवन के नाम है. जानकारी के लिए बता दें कि एक इंटरव्यू में पवन ज’ल्ला’द ने बताया था कि, ‘’मैं पुश्तैनी ज’ल्ला’द हूं. मेरे परदादा लक्ष्मन, दादा कालू उर्फ कल्लू, पिता मम्मू भी ज’ल्ला’द थे. मैंने भी अपने पुरखों के साथ कई फां’सी लगाने में हिस्सा लिया है.

उन्हीं से फां’सी लगाने की कला सीखी है. फां’सी लगाना बच्चों का खेल नहीं है. बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है, क्योंकि ज’ल्ला’द की एक गल्ती का खामियाजा फां’सी पर टंगने वाले को बहुत बुरे हाल में ला सकता है.” पवन ने बताया कि उसने, दादा कालू राम ज’ल्ला’द के साथ 20-22 साल की उम्र में दो सगे भाइयों की फां’सी लगवाई थी. वो फां’सी पटियाला सेंट्रल जेल में लगाई गई थी. इस वक्त पवन की उम्र करीब 58 साल है.

ति’हा’ड़ से मिले पैसों से करूंगा बेटी की शादी- पवन ज’ल्ला’द
आपको बता दें कि पवन ज’ल्ला’द ने बताया कि, ‘’तमाम उम्र मुजरिमों को फां’सी पर लटकाते रहने के बाद भी वो गरीब ही रहा. इस बार नि’र्भ’या के चारों मु’जरिमों को को फां’सी पर लटकाने का उसे बढ़ा हुआ मेहनताना करीब 1 लाख रुपये (25 हजार रुपये प्रति मुजरिम) मिलेगा.’’ जिसके बाद पवन ज’ल्ला’द ने बताया कि वो इस पैसे से अपनी बेटी की शादी करेंगे।