Categories
Other

प्रशांत भूषण को क्‍यों सुनाई गयी 1 रुपये जुर्माना भरने की सजा? सुप्रीम कोर्ट ने बतायी ये वजह

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में आज प्रशांत भूषण के खिलाफ 1 रूपया का जुर्माना लगाया. साथ ही ये भी कहा कि अगर जुर्माना नहीं भरा जाता तो 3 महीने के लिए जेल की सजा सुनाई जायेगी. आपको बता दें कि माफ़ी मांगने से पहले सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को माफ़ी मांगने के कई मौके दिये लेकिन प्रशांत भूषण ने माफ़ी नहीं मांगी. 25 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘माफी मांगने में गलत क्या है, क्या यह शब्द इतना बुरा है?’ लेकिन इसके बावजूद प्रशांत भूषण ने माफ़ी नहीं मांगी.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि प्रत्‍यक्ष या अप्रत्‍यक्ष रूप से उसने भूषण को माफी मांगने का मौका दिया। अदालत ने कहा कि ‘मगर भूषण ने न हमारी बात सुनी, न ही अटॉर्नी जनरल की सलाह मानी। इसलिए हमें उन्‍हें उचित सजा देने पर विचार करना पड़ा।’ अदालत ने कहा कि अगर वह भूषण के व्‍यवहार का संज्ञान न लेती तो इससे वकीलों और याचिकाकर्ताओं में गलत संदेश जाता। SC ने कहा, “हालांकि दरियादिली दिखाते हुए, हम कड़ी सजा देने के बजाय अवमानना करने वाले पर एक रुपये का मामूली जुर्माना लगा रहे हैं।”

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि “भूषण ने इस सब-जुडिस मामले पर कई इंटरव्‍यू भी दिए और कोर्ट की गरिमा को और चोट पहुंचाने की कोशिश की। अगर हम ऐसे व्‍यवहार का संज्ञान नहीं लेते तो इससे देशभर के वकीलों और याचिकाकर्ताओं के बीच गलत संदेश जाएगा।” अदालत ने यह भी कहा कि उसकी नजर में ‘भूषण की गलती बेहद गंभीर है। उन्‍होंने न्‍याय प्रशासन के ऐसे संस्‍थान की गरिमा को ठेस पहुंचाने की कोशिश की है जिसके वे खुद भी एक सदस्‍य हैं।