Categories
Other

बड़ी ब्रेकिंग: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत को लेकर अस्पताल द्वारा जारी हुआ ये बड़ा बयान

देश में बुधवार को एक दिन में कोरोना से स्वस्थ होने वालों की सबसे बड़ी संख्या दर्ज हुई. केंद्र सरकार के आंकड़ों के मुताबिक 56,383 लोगों ने बुधवार को कोरोना को मात दी. आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना से औसत रिकवरी दर 70 फीसदी से ज्यादा हो गई है. इसके साथ ही देशभर में एक दिन में सबसे ज्यादा 7 लाख 33 हजार 449 टेस्ट किए गए. आपको बता दें कुछ दिन पहले प्रणव मुखर्जी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी, जिसके वजह से उन्हें अस्पताल में एडमिट कराया गया था. अब उसी को लेकर अस्पताल द्वारा जारी हुआ ये बयान.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत में कोई सुधार नहीं है और वह अब भी गहरी बेहोशी में हैं. सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल ने गुरुवार को एक बयान में यह जानकारी दी. मुखर्जी का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने कहा कि उनकी हालत स्थिर है और वह अब भी जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं. मुखर्जी (84) को 10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी. इससे पहले कोविड-19 जांच में उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी. अस्पताल ने एक बयान में कहा, ”प्रणब मुखर्जी की हालत में आज सुबह भी कोई सुधार नहीं आया. वह गहरी बेहोशी में है और अब भी जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं.”

इस बीच, पूर्व राष्ट्रपति के स्वास्थ्य को लेकर आ रही खबरों से नाराज उनके बेटे व पूर्व सांसद अभिजीत मुखर्जी ने कहा, ”मेरे पिता श्री प्रणब मुखर्जी अभी जिंदा हैं और ‘हेमोडायनामिक’ तौर पर स्थिर हैं.” मुखर्जी की बेटी और कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी ट्वीट किया कि मेरे पिता के बारे में आ रही खबरें गलत हैं. मैं अनुरोध करती हूं, विशेषकर मीडिया से कि मुझे फोन ना करें…. ताकि अस्पताल से कोई भी जानकारी आने के समय मेरा फोन बिजी ना हो. प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के राष्ट्रपति थे.