Categories
Other

रंजन गोगोई ने शपथ के दौरान हंगामा कर रहे लोगों को दिया करारा जवाब

आज राज्यसभा में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सदस्य के रूप में शपथ ली है. आपको बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व CJI रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामांकित किया था. विपक्ष के कुछ सांसदों ने इसी सब को लेकर सदन में हंगामा किया.

बताते चलें कि जब गोगोई शपथ ले रहे थे, तब विपक्ष के कुछ सांसद शेम-शेम के नारे लगाने लगे और फिर सदन से बाहर चले गए. अब इस पूरे मामले पर नए नए राज्यसभा सांसद बने पूर्व चीफ जस्टिस गोगोना ने प्रतिक्रिया दी है. आइए आपको बताते है कि CJI रंजन गोगोई ने क्या कहा है.

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि, ‘जो लोग मेरा विरोध कर रहे हैं, वे जल्द ही मेरा स्वागत भी करेंगे’. आपको बता दें कि इससे पहले भी रंजन गोगोई का राज्यसभा में मनोनयन के फैसले को लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता मधु किश्वर की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है. इस याचिका में कहा गया है कि रंजन गोगोई को राज्यसभा भेजे जाने के फैसले से न्यायपालिका की स्वायत्तता पर गंभीर प्रश्नचिह्न लग गया है, इसलिए इसपर रोक लगाया जाना चाहिए.

रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामित किए जाने के बाद विपक्ष नाखुश दिखा है. जानकारी के लिए बता दें कि रंजन गोगोई ने मंगलवार को कहा था कि पहले मुझे शपथ ले लेने दीजिए फिर मैं मीडिया से विस्तार में बात करूंगा कि मैंने ये क्यों स्वीकार किया और मैं राज्यसभा क्यों जा रहा हूं.

आपको बता दें कि चीफ जस्टिस के रूप में रंजन गोगोई का कार्यकाल सुप्रीम कोर्ट में साढ़े 13 महीने का रहा था. बताते चलें कि इस दौरान उन्होंने कई महत्वपूर्ण फैसले लिए थे. जिनमें राम मंदिर, चीफ जस्टिस का ऑफिस पब्लिक अथॉरिटी, सबरीमाला, सरकारी विज्ञापन में नेताओं की तस्वीर पर पाबंदी और अंग्रेजी-हिंदी समेत 7 भाषाओं के मामले में फैसला महत्वपूर्ण है. ये भी बता दें कि गोगोई 17 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट से रिटायर हो गए थे।