Categories
राशिफल

इन 4 रा’शि के जा’तकों प’र शनि’देव की हो’गी वि’शेष कृ’पा, जा’निए अपना रा’शिफल…..

राशिफल 4 अक्टूबर

ग्र’हों की स्थि’ति-चंद्र’मा मेष रा’शि में हैं। वृष’भ रा’शि में रा’हु हैं। शुक्र, सिं’ह राशि में हैं। सू’र्य, क’न्‍या राशि में हैं। बुध, तु’ला राशि में हैं। के’तु वृश्चि’क राशि में हैं। गु’रु धनु रा’शि में हैं। श’नि मक’र राशि में हैं। मं’गल मी’न राशि में आ गए हैं। व’क्री ग’ति से चल रहे हैं। ग्र’हों की स्थि’ति अ’च्‍छी है। जन’मानस अच्‍छे से आ’गे बढ़ र’हा है।

राशि’फल-
मेष-भाग्‍यव’र्धक स्थि’ति है। भू’मि,भव’न,वाह’न की उप’लब्‍धता रहेगी। जै’सा चाहें’गे वै’सा होगा। जीव’न में त’रक्‍की करें’गे। शान’दार तरी’के से आ’गे ब’ढ़ रहे हैं। प्रे’म,व्‍या’पार स’ब अ’च्‍छा च’ल र’हा है। स्‍वा’स्‍थ्‍य प’र अप’ना ध्‍या’न र’खें। हनुमा’न जी की अ’राधना क’रें। हनुमा’न चाली’सा का पा’ठ क’रें।

वृष’भ-सिरद’र्द र’हेगा। कु’छ बा’तों को लेकर परेशा’न हो स’कते हैं। वि’त्‍तीय स्थि’ति का आंक’लन कर’के मान’सिक रू’प से परेशा’न हो सक’ते हैं। स्‍वा’स्‍थ्‍य, प्रे’म,व्‍या’पार सब ठी’क चल र’हा है। बि’ल्‍कुल परे’शान न हों। मां का’ली की श’रण में ब’ने र’हें।

मि’थुन-आ’र्थिक स्थि’ति में सु’धार हो’गा। रु’का धन वाप’स मिले’गा। आ’य के न’वीन स्रो’त ब’नेंगे। स्‍वा’स्‍थ्‍य,प्रे’म अ’च्‍छा है। व्‍या’पार नि’खरता जा र’हा है। पी’ली व’स्‍तु का दा”न क’रें।

क’र्क-जी’वन में त’रक्‍की कर रहे हैं। स्‍वा’स्‍थ्‍य ठी’क चल रहा है। प्रे’म औ’र व्‍यापा’र से थो’ड़ी नीर’सता मि’ल रही है। लेकिन अ’च्‍छा होगा। बु’रा न’हीं हो’गा आ’पके सा’थ। बज’रंग ब’ली की अरा’धना कर’ते रहें।

सिं’ह-भा’ग्‍यवर्धक दि’नों का नि’र्माण हो रहा है। पू’जा-पा’ठ में मन लग रहा है। धा’र्मिक बने र’हेंगे आप। स्‍वा’स्‍थ्‍य, प्रेम अ’च्‍छा है। व्‍यापा’र की भी स्थि’ति सही है। भग’वान वि’ष्‍णु की अरा’धना करें।

क’न्‍या-थो’ड़ी विप’रीत प’रिस्थितियां हैं। किसी तर’ह का को’ई रि’स्‍क न लें। अचान’क प’रिस्थितियां थो’ड़ी प्रति’कूल हो गई हैं। स्‍वा’स्‍थ्‍य पर ध्‍या’न दें। प्रे’म, व्‍या’पार अ’च्‍छा च’ल रहा है। शनि’देव की अरा’धना क’रते रहें। ला’ल व’स्‍तु का दा’न क’रें।

तु’ला-जीवन’साथी के सा’थ अ’च्‍छा सम’य गुज’रेगा। प्रे’मी-प्रेमि’का की मुला’कात स’म्‍भव है। जीव’न में तर’क्‍की करेंगे। स्‍वा’स्‍थ्‍य, प्रेम,व्‍या’पार सब कुछ अ’च्‍छा चलेगा। श’निदेव की अरा’धना करें। ला’ल व’स्‍तु का दा’न करते रहें।

वृश्चि’क-विरो’धी प’रास्‍त हों’गे। रु’का हुआ का’म चल पड़े’गा। बुजु’र्गों का आशी’र्वाद मिलेगा। स्‍वा’स्‍थ्‍य मध्‍य’म हो सकता है। प्रे’म औ’र व्‍या’पार अ’च्‍छे से चल’ता रहे’गा। का’ली वस्‍तु’ओं का दा’न करें।

ध’नु-गृहक’लह का संके’त है लेकि’न रो’जी-रोजगा’र में त’रक्‍की करें’गे। भाव’नाओं में आक’र को’ई निर्ण’य न लें। प्रेम में तू-तू, मैं-मैं की स्थिति रहेगी लेकिन स्‍वास्‍थ्‍य औ’र व्‍यापा’र आप’का अ’च्‍छा चले’गा। के’सर का ति’लक ल’गाएं।

मक’र-भू’मि,भव’न,वा’हन की खरी’दारी सम्‍भ’व है। जी’वन में तर’क्‍की करते दिख रहे हैं। स्‍वा’स्‍थ्‍य, प्रेम,व्‍या’पार सब अच्‍छा च’ल रहा है। ला’ल व’स्‍तु का दान’ करें।

कुं’भ-रो’जी-रोज’गार में त’रक्‍की करेंगे। न’ए व्‍या’पार का अव’सर मि’लेगा। भा’इयों, मि’त्रों के स’हयोग से कु’छ का’म बने’गा। स्‍वा’स्‍थ्‍य, प्रे’म,व्‍या’पार स’ब कु’छ अ’च्‍छा चल र’हा है। श’निदेव की अरा’धना कर’ते रहें। ह’री व’स्‍तु पा’स र’खें।

मी’न-जीव’न में आ’गे ब’ढ़ चु’के हैं। न’ए अ’वसर मिलें’गे। आ’पको उ’न अव’सरों का ला’भ मि’लेगा। स्‍वा’स्‍थ्‍य, प्रे’म, व्‍या’पार स’ब कु’छ ब’हुत अ’च्‍छा चल रहा है। को’ई दि’क्‍कत नहीं है। ह’नुमान जी की अ’राधना कर’ते रहें।