Categories
Other

अचानक धोनी के इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने की असली वजह आयी सामने

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और भारतीय क्रिकेट को नयी ऊँचाइयों पर पहुँचाने वाले महेंद्र सिंह धोनी ने कल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया. इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने इसका ऐलान किया. टेस्ट क्रिकेट से एमएस धोनी पहले ही संन्यास का ऐलान कर चुके थे. 2019 वर्ल्ड कप के बाद से ही धोनी क्रिकेट के मैदान से दूर थे. इस दौरान कई बार उनके सन्यास की अटकलें लगती रही. लेकिन आखिरकार उन्होंने अपने रिटायरमेंट का ऐलान कर ही दिया.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का फैसला लेकर उन्होंने साफ-साफ संदेश दिया कि वह युवाओं के लिए रास्ता नहीं रोकेंगे। अगर धौनी संन्यास का ऐलान नहीं करते तो रिषभ पंत, संजू सैमसन और ईशान किशन जैसे खिलाड़ियों पर आइपीएल में दवाब होता। इस साल ऑस्ट्रेलिया में T20 विश्व कप होना था और धौनी उसके लिए अपने आपको फिट रख रहे थे, लेकिन उसके 2021 तक खिसकने के कारण उन्होंने यह फैसला लिया। निश्चित तौर पर अब रिषभ पंत को विकेटकीपर के तौर पर और मौका मिलेगा।

महेंद्र सिंह धोनी अब तक 350 वनडे मैच खेल चुके हैं. करीब 51 के औसत से खेल रहे धोनी 10773 रन बनाए. इसमें 10 शतक और 73 अर्द्धशतक शामिल है. उन्होंने भारत को एक वर्ल्ड कप और टी-20 वर्ल्ड कप भी दिलाया. IPL में वो चेन्नई सुपर किंग्स का प्रतिनिधित्व करते रहे और कई बार टीम को IPL का चैम्पियन बनाया. धोनी को दुनिया के बेहतरीन फिनिशर्स में शुमार किया जाता है. मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों में भी उनके शांत स्वभाव की वजह से उन्हें कैप्टन कूल कहा जाता था.