Categories
Other

जिस उम्र में बच्चे पढ़ते और खेलते हैं उस उम्र में देश के लिए लड़ गया सचिन

19 साल के बच्चे की उम्र ही क्या होती है, इस उम्र में तो बच्चे अपनी पढ़ाई के साथ घूमना-फिरना और मस्ती करते हैं लेकिन आज हम आपको 19 साल के एक ऐसे बेटे की कहानी बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानकर आप भी रो देंगे. जिस उम्र में बच्चे खेलते पढ़ते और मजे करते हैं उस उम्र में 19 वर्षीय सचिन ने देश के लिए वो कर दिखाया जो बड़े-बड़े लोग नही कर पाते हैं.

देश की रक्षा करने के लिए फ़ौज में शामिल हुए सचिन शर्मा की माँ ने उस दिन सोचा भी नही था कि एक दिन पहले जिस बेटे से वो उसकी कुशलक्षेम पूछ रही है अगले ही दिन वो देश के लिए श’ही’द हो जायेगा. सचिन ने अपनी शहादत से पहले माँ को फोन किया था. सावित्री से बात करते हुए कहा था कि इस बार माँ में जल्दी नहीं आ पाउँगा सर’हद पर तना’व ज्यादा बढ़ गया है.

माँ से बात करते हुए सचिन ने कहा था कि दुश्म’न ने सर’हद पर दुस्सा;हस किया तो उनको कु’चल’कर ही आऊंगा लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था और वो अगले ही दिन दुश्म’न के हाथों श’ही’द हो गया. सचिन के शहीद होने की खबर ने पूरे गाँव के लोगों को रुला दिया. इस खबर के बादमानो घरवालों पर तो पहा’ड़ ही टू’ट गया हो.

सचिन की यादों को भुलाया नहीं जा सकता. उनके पिता सुरेन्द्र कुमार शर्मा ने जब उससे शादी के लिए कहा था तो सचिन ने कहा था कि पहले छोटी बहन अंजू और भाई साहिल को पढ़ा लिखा दूँ, मैं अगर अभी शादी कर लेता हूँ तो श’ही’द हो जाता हूँ तो आप पर भी बहू का बोझ बढ़ जायेगा. ये सब बाते करते हुए घरवाले भावुक हो गये थे. अपने घर के सपने पूरे करने से पहले ही सचिन जनवरी 2018 में अरुणाचल प्रदेश में दुश्म;नों से लड़ते हुए श’ही’द हो गया.

21 replies on “जिस उम्र में बच्चे पढ़ते और खेलते हैं उस उम्र में देश के लिए लड़ गया सचिन”

Leave a Reply

Your email address will not be published.