Categories
Other

सऊदी अरब से लौटे युवक ने सुनाई आपबीती, कहा-खिलाते थे जानवरों का…

सऊदी अरब में साढ़े तीन साल से शेख की कैद में फंसा फिल्लौर का रहने वाला सुरेश तिवारी घर पहुंचा जिसके बाद परिजनों ने राहत की सांस ली. आपको बता दें कि अगस्त 2016 में फिल्लौर के एक ट्रैवल एजेंट के कहने पर सुरेश तिवारी सऊदी अरब में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी के लिए गया था. वे वहां अच्छी सैलरी पाने के लालच में गया था. वह अपनी फिल्लौर की निजी फर्म की अच्छी नौकरी छोड़कर पैसे खर्च करके सऊदी अरब चला गया ज्यादा पैसे कमाने…आइए आपको बताते है कि सुरेश के साथ सऊदी अरब में क्या हादसा हुआ.. सुनकर आप भी दंग हो जाएंगे..

सुरेश तिवारी ने अपनी आपबीती में बताया कि उससे 18 घंटे तक काम करवाया जाता था और जानवरों को दिया जाने वाला खाना खिलाया जाता है. जब वह वेतन मांगते थे तो शेख उसकी पिटाई कर देते थे। सुरेश ने आगे बताया कि अगस्त 2016 में फिल्लौर की निजी फर्म की अच्छी नौकरी छोड़कर पैसे खर्च करके सऊदी अरब चला गया ज्यादा पैसे कमाने गया था. वहां पहुंचने पर उसको एक शेख के फार्म हाऊस में नौकरी पर लगा दिया गया। जब उसने एजेंट को इस बारे में बताया तो एजेंट ने कहा कुछ दिन के बाद वह उसे कहीं और नौकरी लगा देगा।

सुरेश ने बताया कि जब उसे वहां काम करते 11 दिन ही हुए थे तो वहां पहले चार साल से काम कर रहे झारखंड के एक युवक ने शेख के अत्याचारों से तंग आकर अपने आपको जला डाला था. साथ ही सुरेश ने बताया की डेढ़ साल तो सब ठीक चलता रहा, जब उसने घर आने के लिए छुट्टी मांगी तो शेख ने उसकी तनख्वाह बंद कर दी और उस पर जुल्म करने शुरू कर दिए। शेख के फार्म हाउस में 50 गाय और 200 बकरियां थीं. जिनका सुबह चार बजे उठकर दूध दोहना पड़ता होता था. सात बजे से सारा दिन इनके लिए हाथ से चारा काटना पड़ता था और रात 10 बजे तक काम करना पड़ता था. उसने बताया कि उसके साथ दो और लोग भी थे जो सुडान के रहने वाले थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.