Categories
News Other

जब भगत सिंह ने लाहौर जे’ल से छोटे भाई को लिखा था ये अंतिम पत्र, पढ़ कर आ जायेगें आंसू….

खबरे

‘उसे फिक्र है हरदम नया तर्जे जफा क्या है, हमें ये शौक है देखें सि’तम की इंतहा क्या है’। यह वो शेर है जो श’हीद ए आजम सरदार भगत सिंह ने सें’ट्रल जे’ल ला’हौर से अपने छोटे भाई कुलतार सिंह को अं’तिम पत्र में लिखा था। उर्दू में लिखे उस पत्र में भगत सिंह ने चार शेर लिखे थे, जिनमें साहस और राष्ट्रप्रेम का संदेश भी दिया था। 

सरदार भगत सिंह के छोटे भाई कुलतार सिंह का परिवार सहारनपुर में जैन कॉलेज रोड पर प्रद्युम्ननगर में रहता है। कुलतार सिंह का नि’धन हो चुका है, अब उनके पुत्र किरणजीत सिंह संधू यहां रहते हैं। सरदार भगत सिंह द्वारा सेंट्रल जे’ल ला’हौ’र से भेजे उस पत्र की प्रति को आज भी वह सहेजकर रखे हुए हैं। शहीद भगत सिंह की मां विद्यावती भी 1960 के बाद करीब 10 साल तक सहारनपुर में ही रही थीं। 
किरणजीत सिंह संधू ने बताया कि उनके ताऊ सरदार भगत सिंह जब ला’हौर जे’ल में बंद थे। 24 मार्च 1931 को उन्हें फांसी की सजा सुनाई जानी थी। तीन मार्च 1931 को उनके पिता कुलतार सिंह और परिवार के अन्य लोग भगत सिंह से मुलाकात करने जेल गए थे। तब कुलतार सिंह की उम्र महज 12 साल थी। मुलाकात के दौरान उनकी आंखों में आंसू आ गए थे, जिसे देख सरदार भगत सिंह ने साहस भी बंधाया था। इसके बाद ही उन्होंने छोटे भाई कुलतार सिंह के नाम अंतिम पत्र भेजा था। 

लाहौर में बांटे गए पम्फलेट की प्रति भी सुरक्षित
किरणजीत सिंह संधू ने बताया कि अ’सेंबली में ब’म फेंकने की घटना के बाद जब सरदार भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त को गि’रफ्तार कर लाहौर जेल में डाल दिया गया था, तब उन्होंने बंदियों के साथ अच्छा व्यवहार करने की मांग को लेकर जेल में 114 दिन तक भूख हड़ताल की थी। 1929 में लाहौर में राष्ट्रभक्तों ने पम्फलेट छपवाकर बांटे थे, उसमें सरदार भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त की तस्वीर भी लगाई थी। उस पम्फलेट की प्रति आज भी उनके पास मौजूद है।

अंतिम पत्र में लिखी लाइनें 
अजीज कुलतार, तुम्हारी आंखों में आंसू देखकर दुख हुआ। हौसले से रहना, शिक्षा ग्रहण करना, अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना और क्या कहूं। इसके बाद उन्होंने पत्र में चार शेर लिखे और अंत में लिखा… खुश रहो अहले वतन हम तो सफा करते हैं… तुम्हारा भाई भगत सिंह। 

पत्र में  लिखे शे’र 
उसे फिक्र है हरदम नया तर्जे जफा क्या है 
हमें ये शौक है देखें सितम की इंतहा क्या है।