Categories
Other

अनिश्चतकाल के लिए बंद होने जा रहा है शिरडी का साई मंदिर,सीएम उद्धव ठाकरे के बयान से बढ़ा विवाद

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे के साईं के जन्मस्थान को लेकर दिए गए बयान के बाद बवाल बढ़ता जा रहा है. आज शिरडी में बंद का आयोजन किया गया है, हालांकि आपको बता दें कि साईं मंदिर खुला है. ऐसे में मंदिर में साईं के दर्शन के लिए श्रद्धालु मंदिर पहुंच रहे हैं. वहीं मंदिर के बाहर अच्छी-खासी तादाद देखी जा रही है. शिरडी बंद के कारण सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है, दुकानें बंद हैं. इस बीच विवाद बढ़ता देख उद्धव ठाकरे ने बातचीत की इच्छा जताई है.

दरअसल आपको बता दें ये विवाद उस समय पैदा हुआ जब उद्धव ठाकरे ने परभणी जिले के पाथरी में साईं बाबा से जुड़े स्थान पर सुविधाओं का विकास करने के लिए 100 करोड़ रुपये की राशि आवंटित करने की घोषणा की थी. कुछ श्रद्धालु पाथरी को साईं बाबा का जन्मस्थान मानते हैं, जबकि शिरडी के लोगों का दावा है कि उनका जन्मस्थान अज्ञात है.

बंद का बीजेपी विधायक ने किया समर्थन
शिरडी स्थित श्री साईं बाबा संस्थान न्यास के मुख्य कार्यकारी अधिकारी दीपक मुगलीकर ने बताया कि बंद के बावजूद मंदिर खुला रहेगा. स्थानीय बीजेपी विधायक राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा कि उन्होंने स्थानीय लोगों द्वारा बुलाए गए बंद का समर्थन किया है.

क्या है विवाद?
परभणी जिले का पाथरी शिरडी से करीब 275 किलोमीटर दूर स्थित है.सीएम उद्धव ठाकरे ने इसे साईं की जन्मभूमि बताया और इसके विकास के लिए 100 करोड़ रुपये का ऐलान कर दिया. यूं तो साईं के जन्म को लेकर साफ-साफ जानकारी किसी को भी नहीं है, लेकिन कहा जाता है कि वो शिरडी आकर बस गए और यहीं के होकर रह गए. जिसके बाद से शिरडी की पहचान भी साईं से हो गई।

नाराज हैं शिरडी के लोग
सीएम के ऐलान के बाद शिरडी गांव के निवासी नाराज हो गए हैं। शिरडी साईं ट्रस्ट के कार्यकर्ताओं का कहना है कि उन्हें पाथरी के विकास से आपत्ति नहीं है लेकिन उसे साईं की जन्मभूमि कहना ठीक नहीं है। इससे पहले भी साईं बाबा और उनके माता-पिता के बारे में कई गलत दावे किए जा चुके हैं। सीएम के बयान से लोग इतने आहत हो गए हैं कि शिरडी में बंद बुला लिया गया।


Leave a Reply

Your email address will not be published.