Categories
News

4 साल के बच्चे ने मृ’त होने के बावजूद बचाई 7 जिंदगियां, जानकर आप भी करेगें गर्व….

खबरें

एक 4 साल का बच्चा संजय औजा ने म’रने के बाद भी जिस तरह से 7 लोगों की जिंदगी बचाई, उसके बारे में जा’नकर आप आ’श्चर्यचकि’त हो जाएंगे। दरअसल हुआ यह कि खेल खेल के दौ’रान संजय औजा गिर गया और उसकी स्थिति ख’राब हो गई। इसके बाद उसे अ’स्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने इला’ज के बाद उसे ब्रेन डे’ड घो’षित कर दिया। इतने छोटे से बच्चे के साथ ऐसा होने पर उसके परिवार की क्या स्थिति हुई होगी, देखा जाए तो वा’कई में इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।

4 साल के इस बच्चे के माता-पिता को जब इस बात की जानकारी हुई तब उनके हो’श उड़ गए और वह सद’मे में आ गए। इतने छोटे से बच्चे को खोने के बाद उनकी क्या स्थिति होगी यह जानना बिल्कुल भी आसान नहीं है। लेकिन उसके बाद ही सूरत के समाज सेवी संस्था डो’नेट ला’इफ के नी’लेश मं’डलेवाला ने उस बच्चे के माता-पिता से बात की। उन्होंने बच्चे के माता-पिता को समझाया कि वह यदि अपने मृ’त बच्चे का अंग दान कर दे, तो कई लोगों की जिं’दगियों को बचाया जा सकता है। कुछ लोग होते हैं जो इस बात के लिए साफ इनकार कर देते हैं लेकिन संजय के परिवार ने अपने बच्चे के अंग को दान करने का फैसला ले लिया और सहमति दे दी।

बता दें कि इस अंगदान में संजय के शरीर के प्रमुख अंगों जैसे हृदय, फेफड़ा, लीवर, किडनी और आंख को दान के लिए दिया गया। रि’पोर्ट के अनुसार देखा जाए तो इससे 7 जिंदगियों को बचाया जा सकेगा। संजय के हृदय और फेफड़े को ग्रीन कॉरिडोर के माध्यम से पूर्ण रूप से सुरक्षित तरीके से सूरत से सीधे चेन्नई के एमजीएम अस्पताल में लाकर रखा गया।